विजयवाडा़: वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष व आंध्र प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी़ ने कहा कि सरकार 15 करोड़ रुपये प्रति एकड़ जमीन के लिए मात्र 30 लाख रुपये दे रही है। आंध्र प्रदेश की राजधानी क्षेत्र का दौरा कर रहे वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी़ ने लोगों से मुलाकात की।

इस संदर्भ में उन्होंने कहा कि कनकदुर्गा पुल के पास सीड कैपिटल एक्सेस रोड के नाम पर इसके लिए 300 परिवारों को बेघर कर 25 एकड़ जमीन हथियाने का प्रयास किया जा रहा है। पूर्व सरकार ने सूरायपालेम से मंगलगिरी टोलप्लाजा तक एन एच 5 और 9 को जोड़ते हुए गन्नावरम हवाई अड्डे से तुल्लूरु तक रोड़ बिछाने के लिए जमीन ली थी।

लोगों की शिकायत सुनते वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी़
लोगों की शिकायत सुनते वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी़

परंतु तेदेपा सरकार के आये ढाई वर्ष बीत जाने के बाद भी सड़क बिछाने का काम आरंभ नहीं हुआ है। सड़क बिछाने का काम यदि आरंभ कर दिया गया होता तो सीड़ कैपिटल का एक्सेस हो गया होता और ऐसी स्थिति में किसानों से ज़मीन लेने की जरूरत नहीं पड़ती। ज़मीन लेने के बावजूद विजयवाडा़ हवाई अड्डे से गुंटूर तक सड़क बिछाने का काम आरंभ नहीं किया गया है।

यदि कोई मुख्यमंत्री बनता है तो पहले सड़क बिछाने का काम आरंभ करता है। लेकिन ऐसा ना कर सीड कैपिटल एक्सेस के नाम पर 300 परिवारों को बेघर कर 25 एकड़ जमीन हथियाने का प्रयास किया जा रहा है।यहां प्रति एकड़ जमीन की कीमत 15 करोड़ रुपये है।जबकि सरकार प्रति एकड़ जमीन के लिए मात्र 30 लाख रुपये दे रही है।

लोगों को आश्वासन देते वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी़
लोगों को आश्वासन देते वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी़

उन्होंने कहा कि वे विकास का विरोध नहीं कर रहे हैं। सरकार से सिर्फ इतनी मांग की जी रही है कि प्रति एकड़ जमीन के लिए कम से कम 15 करोड़ रुपये मुआवजा दी जाए। सभी को एक जुट होकर इसका विरोध करना चाहिए। वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी ने कहा कि दिवंगत नेता वाई.एस. राजशेखर रेड्डी के बाद किसी ने अच्छा कार्य नहीं किया।

ज्यादातर लोगों का आरोप था कि पुष्कर के दौरान ही झुग्गी-झोपडियाँ तोडकर उन्हें अन्य जगह बसाया गया। वहाँ उन्हें कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।मच्छरों के काटने से कई लोगों को जान गंवानी पड़ी।