मेरठ : अपने विवादित बयानों के कारण अक्सर सुर्खियां बटोरने वाले भाजपा नेता और उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज ने फिर एक बार सांप्रदायिक बयान दिया है। उन्होंने देश में बढ़ती आबादी के लिए मुस्लिम समुदाय को जिम्मेदार ठहराया है। गौरतलब है कि कुछ ही दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने जाति और धर्म पर वोट मांगना गैर-कानूनी घोषित किया था। लेकिन लगता नहीं है कि साक्षी महाराज जैसे भाजपा नेताओं पर इसका कोई असर पड़ने वाला है।

मेरठ में एक मंदिर के उद्घाटन समारोह में लोगों को संबोधित करते हुए महाराज ने कहा, 'देश की आबादी हिंदू नहीं, बल्कि 4 पत्नियां और 40 बच्चों वाले लोगों की वजह से बढ़ रही है।' उन्होंने आगे कहा कि 4 बीवी और 40 बच्चे वाली बात अब आगे नहीं चलेगी। हालांकि साक्षी ने अपने भाषण में किसी समुदाय का नाम नहीं लिया, लेकिन उनका इशारा साफ तौर पर मुस्लिमों की ओर ही था। साक्षी महाराज ने सरकार से जल्द से जल्द यूनिफॉर्म सिविल कोड (यूसीसी) को लागू करने की भी मांग की।

बाद में एक टीवी चैनल से बात करते हुए साक्षी महाराज ने कहा कि उन्होंने किसी समुदाय का नाम नहीं लिया है और उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वह चुनाव आयोग की कार्रवाई का सामना करने को भी तैयार हैं। साक्षी ने कहा, 'हमें तो इनाम मिलना चाहिए, हम चार भाई हैं और चारों संन्यासी हैं, तो बच्चे पैदा करने का कोई सवाल ही नहीं है।'

चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट

हालांकि महाराज के इस बयान पर कांग्रेस और दूसरी विपक्षी पार्टियों ने कड़ा एतराज जताया है। उत्तर प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी ने महाराज के बयान को लेकर रिपोर्ट तलब की है। बता दें कि चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही यूपी में आदर्श आचार संहिता लागू है।

उधर, भाजपा ने साक्षी महाराज के बयान से किनारा कर लिया है। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने इसे साक्षी का निजी बयान बताते हुए कहा कि इसे भाजपा का स्टैंड नहीं समझा जाना चाहिए।