अंकित शर्मा की हत्या को लेकर वॉल स्ट्रीट जनरल ने छापी फर्जी खबर, दर्ज हुई कंप्लेन

आईबी अफर अंकित शर्मा की फाइल फोटो। - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : दिल्ली हिंसा पर गलत रिपोर्ट छापने के मामले में अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल के खिलाफ कंप्लेन दर्ज की गई है। दिल्ली पुलिस और महाराष्ट्र पुलिस में दर्ज शिकायत में वॉल स्ट्रीट जर्नल पर एक खास धर्म को बदनाम करने और साम्प्रदायिकता फैलाने का आरोप लगाया गया है।

क्या है पूरा मामला ?

दरअसल, 26 फरवरी को वॉल स्ट्रीट जर्नल ने दिल्ली हिंसा पर एक रिपोर्ट की थी। इस रिपोर्ट में लिखा गया कि दिल्ली हिंसा में मारे गए आईबी अधिकारी अंकित शर्मा के भाई अंकुर शर्मा ने टेलिफोन पर बताया कि कुछ लोग जय श्रीराम का नारा लगाते हुए पत्थर, चाकू और तलवार के साथ उनके घर पर हमला किया। बाद में आईबी अधिकारी अंकित शर्मा का शव नाले से बरामद किया गया। वॉल स्ट्रीट जर्नल की यह रिपोर्ट कृष्ण पोखारेल, विभूति अग्रवाल और राजेश रॉय नाम से प्रकाशित की गई है।



भाई ने वॉल स्ट्रीट की खबर को बताया झूठा

उधर मारे गए आईबी अधिकारी के भाई अंकुर शर्मा ने डब्ल्यूएसजे की रिपोर्ट को खारिज कर दिया, 'मैंने वॉल स्ट्रीट जर्नल को ऐसा बयान कभी नहीं दिया। यह मेरे भाई और मेरे परिवार को बदनाम करने के लिए एक चाल है। वॉल स्ट्रीट जर्नल झूठ बोल रहा है। '’

कैसे हुई थी अंकित शर्मा की मौत

बता दें कि दिल्ली में हुई हिंसा के दौरान अमित शर्मा की हत्या हो गई थी। नेहरू विहार के आम आदमी पार्टी से निगम पार्षद मोहम्मद ताहिर हुसैन पर अंकित शर्मा की हत्या के आरोप लगे हैं। अंकित के परिवारवालों ने आरोप लगाया है कि हिंसा के दौरान ताहिर हुसैन के समर्थक अंकित को खींचकर पार्षद की इमारत में ले गए और उनकी हत्या करने के बाद शव नाले में फेंक दिया। पार्षद पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आम आदमी पार्टी ने कल देर रात ताहिर हुसैन को पार्टी से निलंबित कर दिया है।

Advertisement
Back to Top