जानिए डोनाल्ड ट्रंप के दौरे से भारत को हुआ कितना फायदा, क्या पाकिस्तान पर बढ़ेगा दबाव 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप एवं पीएम मोदी - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का भारत दौरा काफी सफल रहा। उन्होंने खुद अपने इस दौरे को ऐतिहासिक बताया। हालांकि भारत के दृष्टिकोण से ट्रंप का दौरा कितना सफल रहा, यह बात हर कोई जानना चाहता है। आइए जानते हैं आर्थिक और कूटनीतिक दृष्टि से ट्रंप का दौरा भारत के लिए कितने फायदेमंद रहा।

अमेरिकी राष्ट्रपति के दौरे से पहले ही कयास लगाए जा रहे थे कि दोनों देशों के बीच रक्षा के अलावा कई महत्वपूर्ण क्षेत्रों में अहम समझौते हो सकते हैं। इसके अलावा आर्थिक मोर्चे पर भी ट्रंप की यह यात्रा भारत के लिए महत्वपूर्ण होगी। भारत और अमेरिका के बीच व्यापक वार्ता के बाद कई अहम समझौतों पर हस्ताक्षर हुए।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, मेलानिया ट्रंप एवं पीएम मोदी

चिकित्सा के क्षेत्र में अहम समझौता

दोनों देशों के बीच चिकित्सा उत्पादों की सुरक्षा के विषय पर सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये गए। इसमें भारत की ओर से सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन तथा अमेरिका का फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन शीर्ष संस्था है।

तेल और गैस के क्षेत्र में समझौता

भारत और अमेरिका के बीच एक सहयोग पत्र पर भी हस्ताक्षर किये गए जो इंडियन ऑयल कारपोरेशन एवं एक्जान मोबिल इंडिया एलएनजी लिमिटेड तथा चार्ट इंडस्ट्रीज आईएनसी के बीच हैं। मोदी ने कहा कि तेल और गैस के लिए अमेरिका भारत का एक बहुत महत्वपूर्ण स्त्रोत बन गया है ।

राष्ट्रपति भवन पहुंचने पर डोनाल्ड ट्रंप दंपती का स्वागत करते हुए राष्ट्रपति दंपती और पीएम मोदी 

रणनीतिक संबंध होंगे मजबूत

डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा दोनों देशों के बीच रणनीतिक संबंधों को मजबूत करने पर केन्द्रित थी। ट्रंप की 36 घंटे की भारत यात्रा सम्पन्न होने के कुछ घंटे बाद व्हाइट हाउस ने ‘प्रेजीडेंट डोनाल्ड जे. ट्रंप इज़ स्ट्रेंथनिंग अवर स्ट्रैटेजी विद इंडिया' शीर्षक से एक बयान जारी करते हुए यह बात कही।

यह भी पढ़ें :

भारत-अमेरिका के बीच रक्षा समेत 3 महत्वपूर्ण समझौतों पर हस्ताक्षर

Trump India Visit : ट्रंप-मेलानिया ने किया ताज का दीदार, बोले- थैंक्यू इंडिया

उसने कहा, ‘‘ अमेरिका और भारत दोनों को ही मजबूत आर्थिक संबंधों से लाभ हैं जो दोनों देशों में समृद्धि, निवेश और रोजगार सृजन को आगे बढ़ाते हैं।'' व्हाइट हाउस ने कहा, ‘‘ राष्ट्रपति डोनाल्ड जे. ट्रंप भारत के साथ हमारे रणनीतिक संबंध गहरे कर रहे हैं।''

पाकिस्तान को कड़ा संदेश

पाकिस्तान को एक कड़ा संदेश देते हुए भारत और अमेरिका ने उससे यह सुनिश्चित करने को कहा कि उसके नियंत्रण वाली जमीन का इस्तेमाल आतंकवादी हमले करने के लिए नहीं किया जाए। पीएम मोदी और ट्रंप ने सभी प्रकार के सीमापार आतंकवाद की कड़ी निंदा की।

दोनों नेताओं ने जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा, हिज्बुल मुजाहिदीन, हक्कानी नेटवर्क, डी कंपनी, अलकायदा, आईएसआईएस और तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान समेत सभी आतंकवादी संगठनों के खिलाफ ठोस कार्रवाई करने का भी आह्वान किया। ट्रंप ने कहा कि आतंकवाद की चुनौती पर विस्तार से चर्चा हुई और मोदी का इस पर बड़ा दृढ़ मत है।

Advertisement
Back to Top