समाज सेवक संत गाडगे महाराज की जयंती पर विशेष : स्वच्छता अभियान के प्रथम नागरिक  

संत गाडगे बाबा (फाइल फोटो) - Sakshi Samachar

संत गाडगे बाबा उर्फ डेबूजी महाराज की रविवार (23 फरवरी) को 144वीं जयंती है। डेबूजी महाराज का जन्म महाराष्ट्र के अमरावती जिले के शेंडगाव-अंजनगांव में एक परिट (धोबी) परिवार में हुआ था। डेबुजी झिंगराजी जानोरकर को संत गाडगे महाराज और गाडगे बाबा के नाम से जाने जाते थे। संत गाडगे महाराज को स्वच्छता अभियान के प्रथम नागिरक कहना उचित होगा। क्योंकि गाडगे बाबा जब भी किसी गांव जाते थे तो, वहां सबसे पहले गटर और रास्ते को साफ़ करने लगते।

काम खत्म होने के बाद वे खुद लोगों को गांव के साफ़ होने की बधाई भी देते थे। गाँव के लोग उन्हें पैसे भी देते थे और बाबाजी उन पैसों का उपयोग सामाजिक विकास और समाज का शारीरिक विकास करने में लगाते। लोगों से मिले हुए पैसों से महाराज गांवो में स्कूल, धर्मशाला, अस्पताल और जानवरों के निवास के लिए स्थान बनवाते थे। वे एक समाज सुधारक और घुमक्कड भिक्षुक थे। गाडगे बाबा एक सच्चे कर्मयोगी थे।

गाडगे महाराज की जयंती समारोह

इसी क्रम में 23 फरवरी को महाराष्ट्र के अनके शहरों और कस्बों में संत गाडगे महाराज की जयंती मनाई जा रही है। मुख्य रूप से राष्ट्रीय रजक महासंघ, भारत (धोबी/परिट) सर्व भाषीक की ओर से मुंबई के आजाद मैदान में संत गाडगे महाराज की जयंती समारोह का आयोजन किया गया है।

महा प्रसाद का वितरण करते हुए संजय चिंचोलकर दंपती

साथ ही श्री संत गाडगे बाबा जनकल्याण उत्सव समिति लाखांदूर की ओर से और प्रमुख समाजसेवी भोजराज खड़िखाये, संजय चिंचोलकर, नारायण और वीरेंद्र कुमार के नेतृत्व में संत गाडगे बाबा जयंती के अवसर पर भव्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। इसी तरह शेंडगाव में भी राष्ट्रसंत गाडगेबाबा की जयंती महोत्सव मनाया जाएगा। खबर है कि कुछ ठिकानों पर संत गाडगे महाराज की प्रतिमाओँ का अनावरण किया जाएगा।

साफ-सफाई

आजाद मैदान में होने वाले जयंती समारोह का पोस्टर

महाराज गांवों की सफाई करने के बाद शाम में वे कीर्तन का आयोजन भी करते थे और अपने कीर्तनों के माध्यम से जन-जन तक लोकोपकार और समाज कल्याण का प्रसार करते थे। अपने कीर्तनों के समय वे लोगों को अन्धविश्वास की भावनाओं के विरुद्ध शिक्षित करते थे। अपने कीर्तनों में वे संत कबीर के दोहों का भी उपयोग करते थे। गाडगे बाबा लोगों को कठिन परिश्रम, साधारण जीवन और परोपकार की भावना का पाठ पढ़ाते थे और हमेशा जरूरतमंदों की सहायता करने को कहते थे। वे अपनी पत्नी और अपने बच्चों को भी इसी राह पर चलने की सीख दी थी।

शेंडगाव में गाडगे महाराज जयंती की तैयारी 

बाबा ने महाराष्ट्र के कोने-कोने में अनेक धर्मशालाएं, गौशालाएं, विद्यालय, चिकित्सालय तथा छात्रावासों का निर्माण किया। यह सब वे भीख मांगकर बनावाये। मगर इस महापुरुष ने अपने लिए एक कुटिया तक नहीं बनवाई ली। यही उनकी महानता का परिचय है।

चीथड़े-गोदड़े वाले बाबा

गाडगे बाबा धर्मशालाओं के बरामदे या किसी पेड़ के नीचे ही अपनी सारी जिंदगी बिता दी। उनके पास एक लकड़ी, फटी हुई चादर, मिट्टी का एक बर्तन और एक ढपली होती थी। यही उनकी संपत्ति थी। इसी के कारण गाडगे बाबा को चीथड़े-गोदड़े वाले बाबा के नाम से भी पुकारा जाता था। उनका सही नाम आज भी किसी को मालूम नहीं है।

समाजसेवी वीरेंद्र कुमार के नेतृत्व तैयारी

समाजसेवा

गाडगे बाबा के जीवन का लक्ष्य समाजसेवा था। वे हमेशा दीन-दुखियों तथा उपेक्षितों की सेवा को ही वे ईश्वर भक्ति मानते थे। धार्मिक आडंबरों का वे कट्टर विरोध थे। उनका विश्वास था कि ईश्वर न तो तीर्थस्थानों में होता है और न ही मंदिरों में और न ही मूर्तियों में होता है। उनका मानना था कि ईश्वर मानव समाज में होता है।

भगवान

बाबा कहते थे कि मनुष्य को चाहिए कि वह इस मानव समाज को पहचाने और उसकी पूरी लगन से सेवा करें। वे कहते थे कि भूखों को भोजन, प्यासे को पानी, नंगे को वस्त्र, अनपढ़ को शिक्षा, बेकार को काम, निराश को ढाढस और मूक जीवों को अभय प्रदान करना ही भगवान की सच्ची सेवा होती है।

धर्मशाला

संत गाडगे महाराज प्रतिमा

बाबा ने 12 बड़ी-बड़ी धर्मशालाएं इसीलिए स्थापित की। ताकि गरीब यात्रियों को वहां पर मुफ्त में ठहरने का स्थान मिल सके। नासिक में निर्मित धर्मशाला में लगभग 500 यात्री एक साथ ठहर सकते हैं। वहां पर यात्रियों को सिगड़ी, बर्तन आदि भी निःशुल्क देने की व्यवस्था है। वे प्रतिवर्ष अनेक बड़े-बड़े अन्नदान भी किया करते थे। साथ ही अंधे, लंगड़े तथा अन्य दिव्यांगों और दीन दुखियों के बीच को कम्बल, बर्तन आदि भी बांटते थे।

अनपढ़

गाडगे बाबा अनपढ़ थे, किंतु बड़े बुद्धिमान थे। पिता की मौत के बाद वह नाना के पास रहने लगे। बाबा यहां पर गायें चराने और खेती का काम करना पड़ा था। किसी कारणवश बाबा 1905 से 1917 तक अज्ञातवास पर रहे। इसी बीच उन्होंने जीवन को बहुत नजदीक से देखा। उन्होंने देखा अंधविश्वासों, बाह्य आडंबरों, रूढ़ियों तथा सामाजिक कुरीतियों एवं दुर्व्यसनों से समाज को कितनी भयंकर हानि हो सकती है, इसका उन्हें भलीभांति अनुभव हुआ। जिसका इनका उन्होंने विरोध किया।

गाडगे महाराज मिशन

संत गाडगे महाराज द्वारा स्थापित 'गाडगे महाराज मिशन' आज भी 12 धर्मशालाओं, 31 कॉलेज व स्कूलों, छात्रावासों, अनेक वृद्धाश्रम आदि संस्थान समाज सेवा से जुड़े हैं। मानवता के महान उपासक के 20 दिसंबर 1956 को निधन हो गया। बाबा के निधन पर संत तुकडोजी महाराज ने श्रद्धांजलि अर्पित कर अपनी एक पुस्तक की भूमिका में उन्हें मानवता के मूर्तिमान आदर्श मानते हुए उनकी वंदना की।

भ्रष्टाचार

वे कहा करते थे कि तीर्थों में पंडे, पुजारी सब भ्रष्टाचारी रहते हैं। धर्म के नाम पर होने वाली पशुबलि के भी वे विरोधी थे। यही नहीं, नशाखोरी, छुआछूत जैसी सामाजिक बुराइयों तथा मजदूरों व किसानों के शोषण के भी वे प्रबल विरोधी थे। संत-महात्माओं के चरण छूने की प्रथा आज भी प्रचलित है, पर गाडगे इसके प्रबल विरोधी थे।

मैहर बाबा

महाराज कई बार आध्यात्मिक गुरु मैहर बाबा से भी मिल चुके थे। मैहर बाबा ने भी संत गाडगे महाराज को उनके पसंदीदा संतो में से एक बताया। महाराज ने भी मैहर बाबा को पंढरपुर में आमंत्रित किया और 6 नवंबर 1954 को हज़ारो लोगों ने एक साथ मैहर बाबा और महाराज के दर्शन किये। महाराष्ट्र सरकार ने 2000-01 में 'संत गाडगेबाबा ग्राम स्वच्छता अभियान' की शुरुवात की। जो लोग अपने गांवों को स्वच्छ रखते है उन्हें यह पुरस्कार दिया जाता है।

समाज सुधारक

गाडगे बाबा महाराष्ट्र के प्रसिद्ध समाज सुधारको में से एक है। वे एक ऐसे संत थे जो लोगो की समस्याओं को समझते थे और गरीबों और जरूरतमंदों के लिये काम करते थे। ऐसे महान समाज सुधारक को भारत सरकार ने भी उनके सम्मान में कई पुरस्कार दिये। अमरावती यूनिवर्सिटी का नाम भी गाडगे बाबा के नाम पर रखा गया है। संत गाडगे महाराज भारतीय इतिहास के एक महान संत थे।

के. राजन्ना की कलम से...

Advertisement
Back to Top