नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया केस में दोषी विनय कुमार शर्मा की याचिका खारिज कर दिया है। सर्वोच्च अदालत ने कहा कि निर्भया के दोषी विनय की मानसिक और शारीरिक हालत बिल्कुल ठीक है और यह बात ताजा मेडिकल रिपोर्ट में साफ हुई है।

दोषी विनय शर्मा ने अपनी मानसिक हालत ठीक नहीं होने का हवाला देते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा दया याचिका खारिज करने के खिलाफ कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। विनय ने सभी दस्तावेज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के समक्ष नहीं रखने का भी आरोप लगाया था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने यह कहते हुए विनय की सभी दलीलों को खारिज कर दिया कि सभी दस्तावेज राष्ट्रपति के समक्ष रखे गए थे।

जस्टिस आर भानुमति, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस ए. एस. बोपन्ना की पीठ ने दोषी विनय की दलील को खारिज करते हुए कहा कि हमने सारी फाइलें देखकर विचार किया है। लिहाजा दोषी विनय की इस दलील को खारिज किया जाता है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उसके सारे दस्तावेज नहीं देखे। साथ ही यह दलील भी खारिज की जा रही है कि दिल्ली के उपराज्यपाल ने फाइल पर साइन नहीं किए थे

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया के दोषियों को फांसी देने के लिए डेथ वारंट जारी करने की मांग वाली याचिका पर 17 फरवरी तक के लिए सुनवाई स्थगित कर दी थी। कोर्ट ने कहा था कि निर्भया के दोषी आखिरी सांस तक कानूनी उपायों का इस्तेमाल करने के हकदार हैं और उनके मौलिक अधिकारों की अनदेखी नहीं की सकती।

निर्भया केस में दोषी विनय कुमार शर्मा की एक याचिका पर सुनवाई के दौरान जस्टिस भानुमति कोर्ट रूम में ही बेहोश हो गईं। पीठ ने मामले को स्थगित कर दिया और कहा कि संबंधित आदेश बाद में जारी किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें :

निर्भया केस : विनय शर्मा की याचिका पर सुनवाई के दौरान बेहोश हुईं जस्टिस भानुमति, चैंबर में भेजी गईं

इससे पहले निर्भया केस में दोषी विनय कुमार शर्मा की एक याचिका पर सुनवाई के दौरान जस्टिस भानुमति कोर्ट रूम में ही बेहोश हो गईं। पीठ ने मामले को स्थगित कर दिया और कहा कि संबंधित आदेश बाद में जारी किया जाएगा

हालांकि घटना के 30 से 40 सेकेंड्स के बाद जस्टिस भानुमति को होश आ गई। इसके बाद उन्हें तुरंत व्हीलचेयर से पहले चैंबर और बाद में डिस्पेन्सरी में ले जाया गया।डॉक्टरों ने बताया कि जस्टिस भानुमति को हल्के बुखार के साथ ब्लडप्रेशर भी बढ़ा हुआ है।