नई दिल्ली : निर्भया की मां आशा देवी ने वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह की अपील पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि इंदिरा जय सिंह उन्हें सलाह देने वाली कौन होती हैं। आशा देवी ने कहा कि ऐसे लोगों की वजह से ही रेप पीड़ितों के साथ इंसाफ नहीं हो पाता है।

दरअसल, वकील इंदिरा जयसिंह ने आशा देवी से दोषियों को माफ करने की बात कही थी। जयसिंह ने एक ट्वीट करते हुए लिखा कि वह उनसे (निर्भया की मां) कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का उदाहरण लेने का अनुरोध करती हैं। सोनिया ने नलिनी को माफ कर कहा था कि वह उसके लिए फांसी की सजा नहीं चाहती हैं।

जयसिंह ने उनसे कहा कि वह उनके साथ हैं लेकिन फांसी की सजा के खिलाफ हैं। जिसके बाद आशा देवी ने इस बारे में कहा कि पूरा देश चाहता है कि दोषियों को फांसी की सजा मिले।

उन्होंने आगे कहा कि मुझे यकीन नहीं हो रहा है कि इंदिरा जयसिंह ने ऐसा कहने की हिम्मत कैसे की। मैं उनसे सुप्रीम कोर्ट में कई बार मिली हूं। उन्होंने एक बार भी मुझसे मेरा हालचाल नहीं पूछा और आज वो दोषियों के पक्ष में बोल रही हैं।

इसे भी पढ़ें :

निर्भया केस : नया डेथ वारंट जारी होने के बाद सुप्रीम कोर्ट पहुंचा पवन, नाबालिग होने का किया दावा

क्या अरविंद केजरीवाल के खिलाफ चुनाव लड़ेंगी निर्भया की मां, दिया यह जवाब

आपको बता दें कि निर्भया के चारों दोषियों मुकेश सिंह, विनय कुमार शर्मा, अक्षय और पवन को पहले 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी की सजा होनी थी। दोषियों द्वारा कानूनी दांवपेंच आजमाने की वजह से अब उनकी फांसी की तारीख को आगे बढ़ा दिया गया है। अब चारों को 1 फरवरी को सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी।