नई दिल्ली : दिल्ली की अनाज मंडी स्थित एक इमारत में रविवार की सुबह भीषण आग लग गई। इस हादसे में करीब 43 लोगों की मौत की सूचना है, जबकि कई लोग गंभीर रूप से झुलस गए हैं। उन्हें एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दमकल की 30 गाड़ियां ने काफी देर में आग पर काबू पाया।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने घटना स्थल का दौरा किया और मुआवजे का एलान किया। मृतक के परिजन को 10-10 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की गई है, जबकि घायलों को 1-1 लाख रुपये मिलेंगे। साथ पूरे मामले की जांच के आदेश दिए गए हैं।

जानकारी के अनुसार, दिल्ली के अनाज मंडी की एक बेकरी में यह आग लगी थी। पुलिस ने बताया कि एक आवासीय इलाके में चल रही फैक्ट्री में आग लगने के समय 59 लोग अंदर थे।

आग लगने की जानकारी सुबह पांच बजकर 22 मिनट पर मिली जिसके बाद दमकल के 30 वाहन घटनास्थल पर पहुंचे। घटनास्थल पर हृदय विदारक दृश्य पसरा हुआ था। फैक्ट्री में काम कर रहे लोगों के रिश्तेदार और स्थानीय लोग घटनास्थल की ओर भाग रहे थे।

आग की चपेट में आए लोगों के परेशान परिवार विभिन्न अस्पतालों में अपने संबंधियों को खोज रहे थे। मृतकों और झुलसे लोगों को विभिन्न अस्पतालों में ले जाया गया है।

बिहार के बेगूसराय के रहनेवाले 23 वर्षीय मनोज ने बताया कि उनका 18 साल का भाई इस हैंडबैग बनाने वाली इकाई में काम करता है। उन्होंने कहा, ‘‘मेरे भाई के दोस्त से मुझे जानकारी मिली कि वह इस घटना में झुलस गया है। मुझे कोई जानकारी नहीं है कि उसे किस अस्पताल में ले जाया गया है।''

एक अज्ञात बुजुर्ग व्यक्ति ने कहा, ‘‘कम से कम इस इकाई में 12-15 मशीनें लगी हुई हैं। मुझे इसकी जानकारी नहीं है कि फैक्ट्री मालिक कौन है।'' उन्होंने बताया कि उनके तीन रिश्तेदार इस फैक्ट्री में काम करते हैँ। व्यक्ति ने कहा, ‘‘मेरे संबंधी मोहम्मद इमरान और इकरमुद्दीन फैक्ट्री के भीतर ही थे और मुझे इसकी जानकारी नहीं है कि अब वे कहां हैं।''

उन्होंने बताया कि इस परिसर में कई इकाइयां चल रही हैं। यह इलाका बेहद संकरा है। वहीं दमकल कर्मियों ने बताया कि कई फंसे हुए लोगों को बाहर निकाला गया है और उन्हें आरएमएल अस्पताल, एलएनजेपी और हिंदू राव अस्पताल पहुंचाया गया है।

एलएनजेपी के चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर किशोर सिंह ने बताया कि इस अस्पताल में 34 लोगों को मृत लाया गया था और लोगों के मरने की पीछे की मुख्य वजह धुएं की चपेट में आकर दम घुटना है। कुछ शव जले हुए थे। उन्होंने बताया कि एलएनजेपी में लाए गए 15 झुलसे लोगों में से नौ निगरानी में हैं और कई आंशिक रूप से झुलसे हैं।

जिस बेकरी में आग लगी है, वह तीन मंजिला इमारत में थी। यह बेहद सकरा इलाका है। रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान यह मुसीबत फायर ब्रिगेड कर्मियों के सामने आई।

यह भी पढ़ें :

अग्नि सुरक्षा जागरूकता : इस दिल दहलाने वाली घटना से शुरू हुई यह परंपरा

अग्नि सुरक्षा जागरूकता : आग लगने पर बरतें ये सावधानियां, इन बातों का रखें ख्याल

दिल्ली अग्निशमन सेवा के एक अधिकारी ने बताया कि आग लगने की जानकारी सुबह 5 बजकर 22 मिनट पर मिली, जिसके बाद दमकल की 30 गाड़ियों को घटनास्थल पर भेजा गया।

उन्होंने बताया कि मकान में फंसे कई लोगों को बाहर निकालकर आरएमएल अस्पताल एवं हिंदू राव अस्पताल ले जाया गया है।