दुल्हन बनी कांग्रेस की ये प्रवक्ता, सपा नेता संग लिए 7 फेरे , देखें शादी की खास Photos

पंखुड़ी  रविवार को अनिल के साथ शादी के  बंधन में बंध गई। - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : कांग्रेस नेता पंखुड़ी पाठक शादी के बंधन में बंध गई हैं। उन्होंने ने रविवार को सपा नेता अनिल यादव के साथ सात फेरे लिए। शादी के सभी कार्यक्रम दिल्ली के वसुंधरा वाटिका में सम्पन्न हुए। इस वेडिंग पार्टी में राजनीति जगत की जानी मानी हस्तियां बधाई देने पहुंची।

एक दूसरे को वरमाला पहनाते हुए पंखुडी और अनिल

पंखुड़ी और अनिल की यह लव मैरिज है। पंखुड़ी मूल रूप से दिल्‍ली की रहने वाली हैं। पंखुड़ी ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से लॉ की डिग्री ली है। इनका कोई पॉलिटिकल बैकग्राउंड नहीं है। माता-पिता डॉक्‍टर हैं। 18 साल की उम्र में यानि साल 2010 में इन्होंने दिल्‍ली के हंसराज कॉलेज में जॉइंट सेक्रेट्री का चुनाव जीता था। यहीं से मुख्‍यधारा की राजनीति में इनकी एंट्री हुई।

अपने पति के साथ पंखुड़ी।

पंखुड़ी ने दिल्ली के छात्रसंघ चुनाव में सपा को मजबूत किया था। 2013 में पंखुड़ी को लोहिया वाहिनी का राष्ट्रीय सचिव बनाया गया। जिसके बाद ये फेमस हुईं। ये अपने बेबाक अंदाज के लिए जानी जाती हैं। वही अनिल यादव समाजवादी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। अनिल नोएडा के नेवादा गांव के रहने वाले हैं।

अनिल की ये दूसरी शादी है। पहली पत्नी से तलाक हो चुका है। ये सपा के युवा नेताओं में अहम चेहरा हैं। यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव के करीबी भी माने जाते हैं।

इसे भी पढ़ें

दुल्हन बनने जा रही कांग्रेस की ये महिला नेता, सपा नेता संग लेंगी सात फेरे

पहली पत्नी ने SP नेता पर लगाए संगीन आरोप, दो दिन बाद पंखुड़ी पाठक से रचाएंगे व्याह

पंखुड़ी ने अपने सोशल साइट इंस्टाग्राम पर मेंहदी की तस्वीर शेयर की थी।

पोस्ट के जरिए किया पति का बचाव

पंखुड़ी ने अनिल की पहली पत्नी के आरोपों का अपनी एक पोस्ट से जवाब दिया। उन्होंने मेहंदी की एक तस्वीर शेयर करते हुए लिखा कि सत्य वह सूरज है जिसे फरेब के बादल ढंक नहीं सकते।

दो दिन पहले अनिल की पहली पत्नी ने लगाए थे गंभीर आरोप

दो दिन पहले अनिल यादव की पूर्व पत्नी ज्योति यादव ने उन पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा था, जुलाई 2013 में उनकी शादी अनिल यादव से हुई। मई 2015 उन्होंने बेटे को जन्म दिया। इसी दौरान अनिल सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता बन गए।

सपा सरकार ने सितंबर 2016 में अनिल और पंखुड़ी पाठक समेत अपने नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल को अमेरिका भेजा। वहां से लौटते ही अनिल का व्यवहार बदल गया और वो मारपीट करने लगे। 14 महीने तक जबरन घर में बंधक बनाकर उन्हें प्रताड़ित किया गया। बेटे को मारने की धमकी देकर तलाक लेने के लिए मजबूर किया गया।

Advertisement
Back to Top