नई दिल्ली : तेलंगाना में आरटीसी की हड़ताल पर केंद्र सरकार अब हरकत में आ गई है। केंद्रीय परिवहन राज्य मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि जल्द ही वे तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर व राज्य के परिवहन मंत्री और अधिकारियों की बैठक बुलाएंगे।

इसी सिलसिले में केंद्रीय गृह मंत्री किशन रेड्डी और बीजेपी तेलंगाना के सांसद बंडी संजय, धर्मपुरी अरविंद और सोयम बापुराव ने गुरुवार को गडकरी से मुलाकात कर आरटीसी की हड़ताल को सुलझाने में हस्तक्षेप करने की मांग की।

मीडिया से बात करते हुए किशन रेड्डी ने कहा नितिन गडकरी को तेलंगाना आरटीसी कर्मचारियों के लिए न्याय सुनिश्चित करने के लिए उचित कदम उठाने को कहा गया है।

केंद्रीय मंत्री किशन रेड्डी ने ये भी कहा कि आरटीसी मामले में हस्तक्षेप करने का केंद्र को पूरा अधिकार है। साथ ही ये भी कहा कि तेलंगाना की सरकार को अपनी बदले की राजनीति से बाज आना चाहिए।

किशन रेड्डी ने आरटीसी कार्यकर्ताओं को बिना किसा शर्त के ड्यूटी पर लेने और उनकी न्यूनतम मांगों को पूरा करने का आग्रह किया।

केंद्रीय मंत्री किशन रेड्डी व अन्य 
केंद्रीय मंत्री किशन रेड्डी व अन्य 

किशन रेड्डी ने कहा कि गडकरी ने उनके अनुरोध पर सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है और सीएम केसीआर से बात करने और इस मुद्दे को हल करने का प्रयास करने का वादा किया है।

इसे भी पढ़ें :

TSRTC Strike: डिपो के चक्कर काट रहे कर्मचारी, KCR की समीक्षा बैठक पर सबकी नजरें

श्रीशैलम बांध की सुरक्षा को कोई खतरा नहीं-मंत्री अनिल कुमार यादव

दूसरी ओर हैदराबाद में आरटीसी के उच्च अधिकारियों के साथ एमडी सुनील शर्मा की बैठक होने वाली है। आरटीसी कर्मचारियों की हड़ताल को खत्म करने पर क्या कुछ किया जाना है इस पर चर्चा होनी है।

बैठक इस बात पर केंद्रित होगी कि कर्मचारियों पर काम पर लौटने से किस तरह की शर्तें लागू की जानी चाहिए और भविष्य में इस तरह की हड़ताल को रोकने के लिए क्या कार्रवाई की जानी चाहिए। बैठक के बाद सीएम केसीआर प्रगति भवन में अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।