मुंबई : महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर बना राजनीतिक संकट नित-नया मोड़ ले रहा है। सोमवार को नई दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद एनसीपी प्रमुख शरद के बयान के बाद से मुख्यमंत्री पद के लिए तीन दशक से भी ज्यादा पुरानी भाजपा की दोस्ती तोड़ चुकी शिवसेना के लिए मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं।

शरद पवार ने जहां कल सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने के मुद्दे पर किसी प्रकार की चर्चा नहीं होने की बात कही, वहीं शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि शरद पवार को समझने के लिए नया जन्म लेना पड़ेगा। दोनों पार्टियों के इन बयानों से नहीं लगता कि महाराष्ट्र में अगले कुछ दिनों में कोई सरकार बन पाएगी।

पवार के इस बयान के बाद न केवल शिवसेना के बड़े नेता बल्कि कार्यकर्ता भी असमंजस में पड़ गए हैं। ऐसे में शिवसेना के अधिकांश नेता पर्दे के पीछे से कहने लगे हैं कि पार्टी को अब एनसीपी और कांग्रेस को छोड़कर भाजपा के साथ फिर से दोबारा सरकार बनाना चाहिए।

शिवसेना के एक विधायक का कहना था कि शरद पवार का बयान सुनकर वह हैरान है। उनका कहना था कि शिवसेना को इंतजार करना चाहिए और एनसीपी प्रमुख से हाथ मिलाने से पहले 10 बार विचार करने की जरूरत है। इस बीच, शिवसेना के एक अन्य नेता ने कहा कि शिवसेना जैसी पार्टी जो 80 फीसदी सामाजिक सेवा और सिर्फ 20 फीसदी राजनीतिक करती है। ऐसे में बेहतर होगा कि शिवसेना को कांग्रेस और एनसीपी पर उम्मीद लगाए बैठने की बजाय भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाना चाहिए।

संजय राउत ने ट्वीट कर दिया सियासी संकेत

उधर, इस पूरे मुद्दे को लेकर रोज ट्वीट करने वाले शिवसेना प्रवक्‍ता संजय राउत ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा, 'अगर जिंदगी में कुछ पाना हो तो तरीके बदलो इरादे नहीं...जय महाराष्‍ट्र।' उनका ट्वीट इस बात के संकेत दे रहा है कि शिवसेना सरकार बनाने के लिए अन्‍य विकल्‍पों पर विचार कर रही है।

इससे पहले राउत ने शरद पवार के बयान पर कहा था, 'सरकार बनाने की जिम्मेदारी शिवसेना की नहीं थी। यह जिनकी जिम्मेदारी थी, वे भाग निकले हैं। लेकिन मुझे भरोसा है कि हम जल्दी ही सरकार बना लेंगे।' अब तक सरकार बनाने का दावा करने वाले संजय राउत का अब जिम्मेदारी की बात कहना बताता है कि कहीं न कहीं कुछ पेच जरूर फंस गया है।

क्या भाजपा-शिवसेना के बीच होगा गठबंधन ?

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद एनसीपी चीफ शरद पवार ने शिवसेना के साथ किसी मिनिमम कॉमन प्रोग्राम पर सहमति से ही इनकार कर दिया था। यही नहीं उन्होंने सरकार गठन को लेकर शिवसेना को किसी तरह का भरोसा दिए जाने के सवाल पर भी चुप्पी साध ली थी।

इसे भी पढ़ें:

उद्धव को CM बनते देखना चाहती है शिवसेना, राजग की बैठक में नहीं लेगी हिस्सा

शरद पवार ने ट्वीट कर कहा, 'नई दिल्ली में आज कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधीजी से भेंट कर महाराष्ट्र की राजनीतिक परिस्थितियों के बारे में चर्चा की। आनेवाले समय में महाराष्ट्र के राजनितिक गतीविधियों पर हमारी नजर रहेगी। महागठबंधन के मित्र पक्षों को विश्वास में लेकर हम निर्णय करेंगे।'

मुश्किल में शिवसेना ? पवार बोले, सरकार पर बात नहीं

दक्षिण मुंबई से एक शिवसेना के वरिष्‍ठ कार्यकर्ता ने कहा कि पार्टी को कांग्रेस-एनसीपी से गठबंधन नहीं करना चाहिए और अगर बीजेपी के साथ उसके रिश्‍ते सहज नहीं है तो उसे अकेले चलना चाहिए। उन्‍होंने कहा, 'अगर बीजेपी नहीं तो शिवसेना को बिना अपने अजेंड का त्‍याग किए अकेले जाना चाहिए। पार्टी अगर अपने समान विचारधारा वाली पार्टी के साथ नहीं जाना चाहती है तो उसे अकेले लड़ाई लड़नी चाहिए।'

इसे भी पढ़ें:

BJP ने फिर किया दावा- सबसे बड़ी पार्टी हमारी, महाराष्ट्र में हम बनाएंगे सरकार

महाराष्ट्र : सोनिया-पवार की बैठक सोमवार को, विभागों के बंटवारे पर करेंगे चर्चा

टल गई कांग्रेस-एनसीपी नेताओं की बैठक

कांग्रेस और एनसीपी नेताओं के बीच आज होने वाली बैठक टल गई है. एनसीपी नेताओं का कहना है कि आज कांग्रेस के कई नेता इंदिरा गांधी से जुड़े कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे हैं, ऐसे में जो बैठक आज होनी थी अब वह कल होगी। शरद पवार और सोनिया गांधी की बैठक में ये फैसला हुआ था कि दोनों पार्टियों के नेता बैठक में बात कर आगे की रणनीति तय करेंगे।

शरद पवार को समझने में 10 जन्म लगेंगे

शिवसेना नेता संजय राउत ने एक बार फिर भाजपा पर निशाना साधा है. संजय राउत बोले कि भाजपा ने हमें धोखा दिया है. उन्होंने कहा कि ये पक्का है कि शिवसेना ही राज्य में सरकार बनाएगी। शरद पवार को लेकर उन्होंने कहा कि शरद पवार को समझने में कई जन्म लग जाएंगे. उन्होंने कहा कि पवार साहेब का कद बड़ा है।

प्रधानमंत्री उनकी तारीफ कर सकते हैं. संदय राउत ने कहा कि हम किसानों के मसले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे, ये मुलाकात शरद पवार की अगुवाई में ही होगी।संजय राउत ने बयान दिया कि मुझे शरद पवार पर कोई शक नहीं है, दिसंबर के पहले हफ्ते में हम सरकार बनाएंगे।