हैदराबाद : पाकिस्तान के चोलिस्तान में अवैध रूप से देश में प्रवेश करने के लिए गिरफ्तार दो भारतीयों में से एक आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम से है, जो दो सालों से लापता था। प्रशांत वैंदम को हैदराबाद का बताया जा रहा है, जो पेशे से एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है और दूसरा दारीलाल मध्य प्रदेश का रहने वाला है। ये दोनों कथित रूप से वैध दस्तावेजों के बिना राजस्थान के रास्ते पाकिस्तान में प्रवेश कर गए।

पाकिस्तानी मीडिया ने सोमवार को बताया कि बहावलपुर जिले के समीप स्थित एक रेगिस्तान में 14 नवंबर को इन दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस सूत्रों ने कहा है कि प्रशांत अपनी ऑनलाइन गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए स्विट्जरलैंड जाना चाहता था, लेकिन वह पाकिस्तान जा पहुंचा। पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आखिर पाकिस्तान की सीमा में वह पहुंचा कैसे।

अपने माता-पिता को भेजा गया प्रशांत का एक वीडियो संदेश सोमवार देर रात वायरल हो गया। तेलुगु में वह अपने माता-पिता से कह रहा है कि उसे एक महीने के अंदर जेल से रिहा होने की उम्मीद है।हालांकि उसने इसमें यह नहीं कहा है कि वह पाकिस्तान में कब और कैसे पहुंचा।

प्रशांत के पिता बाबूराव का कहना है कि प्रशांत अपनी प्रेमिका (स्वप्निका) के लिए पागल था और इसी विषय को लेकर उसका घरवालों से भी विवाद हुआ था। इसी के बाद वह दो साल से लापता हो गया। उसे ढूंढने की बहुत कोशिश की पर वह नहीं मिला।

बाबूराव ने आगे बताया कि जब प्रशांत बैंगलुरु में काम करता था तब उसका परिचय स्वप्निका से हुआ था। वहीं वह यह भी कह रहे हैं कि प्रशांत आखिर पाकिस्तान कैसे पहुंच गया उन्हें समझ में नहीं आ रहा है।

बाबूराव का कहना है कि वह अवसादग्रस्त हो गया था और उसकी मानसिक स्थिति भी ठीक नहीं थी। मंगलवार को ये सारी बातें बाबूराव ने माधापुर पुलिस को बताई। बाबूराव ने पुलिस से विनती करते हुए कहा कि उनके बेटे को किसी तरह वे सकुशल ले आए।

वहीं दूसरी तरफ यह भी बताया जा रहा है कि वह प्रेमिका की खोज में गूगल मैप देखते हुए पाकिस्तान पहुंच गया। वहीं प्रशांत का बात करते हुए जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमें वह अपने माता-पिता को तेलुगु में संबोधित कर रहा है और उस वीडियो में उसके पीछे मुस्तफा नाम की नेमप्लेट के साथ हरा रंग का यूनिफार्म पहने एक शख्स भी दिखाई दे रहा है।

हालाँकि, पाकिस्तानी मीडिया ने दावा किया है कि वह अवैध रूप से देश में दाखिल हुआ है इसलिए उनको हिरासत में लेकर उनपर केस दर्ज कर लिया गया है।

इसे भी पढ़ें :

हैदराबाद की केमिकल फैक्ट्री में धमाका, 2 कर्मचारियों की मौत

ब्रह्मर्षि समाज हैदराबाद की अनूठी पहल, दिव्यांगों संग मनाई दिवाली की खुशियां

पाक मीडिया तो यह भी आरोप लगा रहा है कि भारत ने पाकिस्तान में एक विशेष अभियान के तहत इन्हें वहां भेजा है क्योंकि प्रशांत सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। दूसरा युवक मध्यप्रदेश का है।

हालाँकि, भारतीय रक्षा मंत्रालय ने आज पाकिस्तान में दो भारतीय युवाओं के बंदी बनाए जाने पर चर्चा करने के लिए बैठक बुलाई है। साथ ही पाकिस्तान के अधिकारियों से बात करके स्थिति की समीक्षा भी की जाएगी।

भाजपा एमएलसी राममाधव ने कहा कि वह प्रशांत को मुक्त करने की कोशिश करेंगे, जो पाकिस्तान की कैद में है। केंद्रीय मंत्री किशन रेड्डी का कहना है कि भाजपा महासचिव राम माधव से इस मामले पर उन्होंने चर्चा की है।