साढ़ें 5 लाख दीपों से जगमगाई अयोध्या, बना वर्ल्ड रिकॉर्ड

साढ़े पांच लाख दीयों को जलाने की तैयारी चल रही है। - Sakshi Samachar

लखनऊ : भगवान राम की नगरी अयोध्या में 14 जगहों पर 5.51 लाख दीप जलाकर एक रिकार्ड बनाया गया। इस मौके पर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी दीपक जलाए। इस दौरान पूरी अयोध्या को भव्य तरीके से सजाया गया है। राम की पैड़ी पर लेजर शो भी आयोजित किया गया। इस दौरान अतिशबाजी का कार्यक्रम भी हुआ।

इससे पहले मध्य प्रदेश, झारखंड और राजस्थान जैसे विभिन्न राज्यों से आए कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति दी। इसके अलावा झांकी में शामिल कलाकारों को भगवान राम, भगवान कृष्ण और भगवान हनुमान के रूप में तैयार किया गया था।

भगवान राम अपनी नगरी में सरयू तट पर शनिवार को पुष्पक विमान से पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ उतरे। त्रेतायुग के इन महिमामय स्वरूपों की अगवानी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की।

राजकीय दीपोत्सव कार्यक्रम की शुरुआत में पुष्पक विमान रूपी हेलीकॉप्टर यहां के रामकथा पार्क में उतरा। मुख्यमंत्री योगी ने प्रतीकात्मक पुष्पक विमान से उतरे भगवान राम, सीता और लक्ष्मण के स्वरूपों का स्वागत किया। उन्होंने भगवान राम के स्वरूप का तिलक कर त्रोतायुग में हुए राम राज्याभिषेक की स्मृति को जीवंत किया।

इस अवसर पर अपने संबोधन में योगी ने नाम लिए बिना कांग्रेस पर हमला बोला। उन्होंने कहा, "अयोध्या में ऐसी दिवाली मनाने में 70 साल लग गए। मोदी सरकार के आने के बाद भारत के सांस्कृतिक सम्मान को विश्व में पुनस्र्थापित किया गया है।"

यह भी पढ़ें :

सरदार पटेल से भी ऊंची होगी अयोध्या में स्थापित श्रीराम की प्रतिमा

1813 में पहली बार उठा था राम मंदिर मुद्दा, जानिए अयोध्या मसले का इतिहास

मुख्यमंत्री ने कहा, "यह रामराज का ही प्रताप है कि प्रदेश के तीन करोड़ लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर दिए गए। चार करोड़ लोगों को बिजली के कनेक्शन दिए गए और देश के पचास करोड़ लोगों को आयुष्मान योजना के तहत मुफ्त इलाज मुहैया करवाया गया है।"

योगी ने कहा, "पहले की सरकारें अयोध्या आने से डरती थीं, लेकिन मैं पिछले ढाई साल में करीब डेढ़ दर्जन बार अयोध्या आ चुका हूं और जब भी आता हूं, जनता के सहयोग से सैकड़ों करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण करता हूं।"

उन्होंने कहा, "भगवान राम का जीवन हम सभी के लिए प्रेरणास्रोत है। लंका विजय के बाद अनुज लक्ष्मण और पत्नी जानकी के साथ भगवान के अयोध्या वापस आने का प्रसंग यहां जीवंत हुआ। इस तरह का आयोजन करने के लिए प्रदेश सरकार व सभी अधिकारीगण बधाई के पात्र हैं।"

इससे पहले, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने राम, सीता एवं लक्ष्मण के स्वरूपों का माल्यार्पण कर स्वागत किया।

दीपोत्सव के अवसर पर मुख्यमंत्री के साथ परिवहन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वतंत्रदेव सिंह, केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल व अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी और प्रदेश मंत्री नीलकंठ तिवारी, फिजी गणराज्य की उपसभापति एवं सांसद वीना भटनागर, केंद्र और राज्य सरकार के कई मंत्री व अन्य प्रमुख लोग मौजूद रहे।

Advertisement
Back to Top