वाराणसी : केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने गुरुवार को वाराणसी में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) भारत अध्ययन केंद्र के तत्वावधान में आयोजित दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी का दीप प्रज्वलन कर उद्घाटन किया।

इस दौरान उनके साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और कौशल विकास मंत्री महेंद्र नाथ पाण्डेय भी मौजूद रहे। कार्यक्रम में स्कंदगुप्त विक्रमादित्य के जीवन से जुड़े बिंदुओं पर चर्चा की जाएगी, जिसमें शामिल होने के लिए देश-विदेश से नामचीन विद्वान भी पहुंचे हैं।

इससे पहले बाबतपुर स्थित लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पहुंचे गृहमंत्री का स्वागत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, केंद्रीय मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय, मछलीशहर सांसद बीपी सरोज सहित भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विभिन्न नेताओं ने किया। गृहमंत्री ने इसके बाद हेलीकॉप्टर से मुख्यमंत्री के साथ बीएचयू के लिए प्रस्थान किया।

वहीं आयोजन स्थल पर कार्यक्रम की शुरुआत में गृहमंत्री को तलवार भेंट की गई तो पूरा सभागार 'हर-हर महादेव' के नारे से गूंजने लगा।

दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय आयोजन के क्रम में महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा के कुलाधिपति प्रो. कमलेश दत्त त्रिपाठी ने सबसे पहले सभा को संबोधित किया। आयोजन के दौरान अलग अलग सत्रों में गुप्तवंश, हूण आक्रमण, तत्कालीन राजनीतिक चुनौतियां, स्कंदगुप्त का पराक्रम, गुप्तकालीन भारत के वैश्विक आयामों आदि विषयों पर परिचर्चा की जाएगी।

इसे भी पढ़ें :

चुनावी सीजन में अमित शाह बीमार, हरियाणा में नहीं कर पाएंगे रैली

हरियाणा चुनाव में क्या इन 5 खामियों के बाद दोबारा वापसी करेगी बीजेपी ?

कार्यक्रम की अध्यक्षता बीएचयू के कुलपति प्रो. राकेश भटनागर कर रहे हैं तथा विशिष्ट वक्ता भारत अध्ययन केंद्र के शताब्दी पीठ आचार्य प्रो. कमलेश दत्त त्रिपाठी हैं। वहीं कार्यक्रम में जापान से प्रो. ओइबा ताकाकी, प्रो. ईयामा मातो, मंगोलिया से डा. उल्जित लुबराजाव, थाइलैंड से डॉ. नरसिंह चरण पंडा, डॉ. सोम्बत, श्रीलंका से डॉ. वादिंगला पन्नलोका, वियतनाम से प्रो. दोथूहा, अमेरिका से डॉ. सर्वज्ञ के. द्विवेदी, नेपाल से डॉ. काशीनाथ न्यौपने भाग ले रहे हैं।

इससे पहले गृहमंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आगमन से एक दिन पहले बुधवार को गृहमंत्री की फोटोयुक्त बैनर पर कालिख लगाए जाने की सूचना मिलते ही सुरक्षा-खुफिया तंत्र सकते में आ गया था, जिसके तुरंत बाद आनन-फानन में बीएचयू में केंद्रीय व प्रदेश की खुफिया व सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारी पहुंच गए थे।