अयोध्या फैसले से पहले योगी सरकार ने पुलिस अधिकारियों की छुट्टियां 30 नवंबर तक की रद्द

कान्सेप्ट फोटो  - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : अयोध्या मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। बताया जा रहा है कि बुधवार शाम तक इसकी सुनवाई पूरी कर ली जाएगी। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश सरकार ने बुधवार को बड़ा ऐलान किया है। राज्य में पुलिस प्रशासन के सभी अफसरों की छुट्टियां 30 नवंबर तक के लिए रद्द कर दी गईं हैं। उन्हें मुख्यालय में ही रहने के निर्देश जारी किए गए हैं।

इससे पहले पुलिस महकमे ने वहां सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने की तैयारियां शुरू कर दी थीं। अग्रिम आदेश तक अयोध्या में पुलिस अधीक्षक से लेकर सिपाही तक को तैनात कर दिया गया है। डीजीपी मुख्यालय की ओर से सीबीसीआईडी, भ्रष्टाचार निवारण संगठन, ईओडब्ल्यू और पीएसी के मुखिया के साथ ही प्रयागराज, गोरखपुर और वाराणसी जोन के एडीजी को पत्र भेजकर पुलिस अधीक्षक से लेकर सिपाही तक की मांग की गई है।

अयोध्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय के आने वाले फैसले को देखते हुए पुलिस महकमे ने वहां सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने की तैयारियां शुरू कर दी हैं। अग्रिम आदेश तक अयोध्या में पुलिस अधीक्षक से लेकर सिपाही तक को तैनात कर दिया गया है।


इसे भी पढ़ें :

अयोध्या मामला : मुस्लिम पक्ष के वकील ने कोर्ट में फाड़ा नक्शा, चीफ जस्टिस ने लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष की मांग, हमें 5 दिसंबर 1992 जैसा अयोध्या चाहिए

डीजीपी मुख्यालय की ओर से सीबीसीआईडी, भ्रष्टाचार निवारण संगठन, ईओडब्ल्यू और पीएसी के मुखिया के साथ ही प्रयागराज, गोरखपुर और वाराणसी जोन के एडीजी को पत्र भेजकर पुलिस अधीक्षक से लेकर सिपाही तक की मांग की गई है। पीएसी से एक एसपी, 4 अपर पुलिस अधीक्षक और 6 पुलिस उपाधीक्षक को मंगलवार से ही अयोध्या को उपलब्ध कराने के निर्देश जारी किए गए हैं।

इसके अलवा 30 इंस्पेक्टर, 50 सब इंस्पेक्टर, 10 महिला सब इंस्पेक्टर, 50 मुख्य आरक्षी और 200 आरक्षी और 100 महिला आरक्षी को मंगलवार को ही अयोध्या पहुंचने के निर्देश दिए गए थे।

Advertisement
Back to Top