श्रीनगर : जम्मू एवं कश्मीर के अनंतनाग जिले में बुधवार को सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए। यह जानकारी पुलिस सूत्रों के हवाले से मिली है। मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद सहित विस्फोटक सामग्री बरामद होने के बाद पुलिस ने वहां के लोगों से सहयोग करने के साथ ही घटनास्थल से तब तक दूर रहने का अनुरोध किया है, जब तक कि इलाके से खतरा दूर नहीं हो जाता।

पिछले 72 दिनों के बाद सोमवार को मोबाइल नेटवर्क सेवा दोबारा बहाल करने के बाद घाटी में यह पहली मुठभेड़ है। सुरक्षाबलों को बिजबेहरा क्षेत्र के पजलपोरा गांव में आतंकवादियों के छिपे होने की विशेष सूचना मिली थी, जिसके बाद सुरक्षा बलों ने इलाके में घेराबंदी की थी।

पुलिस अधिकारी ने कहा, "सुरक्षा बलों ने छिपे हुए आतंकवादियों को पकड़ने के लिए जैसे ही घेराबंदी की, उन्होंने गोलीबारी शुरू कर दी।" घेराव और तलाशी अभियान के दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी।

पुलिस बयान के अनुसार, इस मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए हैं और उनके शव बरामद कर लिए गए हैं। मारे गए आतंकवादियों की पहचान और ये किस संगठन से जुड़े हैं इसकी जानकारी अभी तक नहीं मिली है।

एक बयान के अनुसार, "मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद सहित विस्फोटक सामग्री बरामद की गई है। क्षेत्र में तलाशी अभियान जारी है। पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर लिया है।"

यह भी पढ़ें :

2 महीने में कुछ यूं दिखने लगे उमर अब्दुल्ला, नजरबंद के बाद पहली तस्वीर आई सामने

कश्मीर में पोस्टपेड मोबाइल सेवा बहाल,  दो महीने बाद अपनों से जुड़े 40 लाख लोग

बयान में आगे कहा गया, "जब तक क्षेत्र से आतंकवादियों का पूरी तरह से सफाया नहीं कर दिया जाता और सभी विस्फोटक पदार्थों को नष्ट नहीं कर दिया जाता, तब तक स्थानीय लोगों से अनुरोध किया जाता है कि वे पुलिस का सहयोग करें और स्थल से दूर रहें।"

-आईएएनएस