लखनऊ : उत्तर प्रदेश में 25 हजार होमगार्ड की ड्यूटी खत्म करने पर योगी सरकार ने यू-टर्न ले लिया है। होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान ने कहा कि किसी भी होमगार्ड को नहीं निकाला जाएगा। डीजीपी से बातकर सीमित बजट में ड्यूटी देने का सुझाव दिया गया है। यूपी पुलिस अपने सीमित बजट में 17000 होमगार्ड्स को ड्यूटी पर रख सकती है। बाकी 8000 होमगार्ड्स को मुख्यालय से ड्यूटी मिलेगी।

चेतन चौहान ने कहा कि सीमित जवान और कम ड्यूटी के फॉर्मूले से हल निकला है। 31 मार्च के बाद सभी होमगार्ड को नए मानदेय के साथ ड्यूटी मिलेगी। मंत्री ने कहा कि नए बजट में होमगार्ड और पुलिस का बजट बढ़ेगा।

इस संबंध में मीडिया में खबरें आने के बाद सरकार ने हालांकि स्पष्ट किया कि वह समस्या के निदान का रास्ता तलाशने का प्रयास कर रही है और सुनिश्चित करेगी कि हर घर में दीपावली मनायी जाए।

होमगार्डों को 672 रु. भत्ता

होमगार्ड का दैनिक भत्ता अब बढ़कर 672 रुपये हो गया है जो शीर्ष अदालत के जुलाई के आदेश से पहले पांच सौ रुपये था। सरकार ने कहा कि इससे राजकोष पर हर महीने 10 से 12 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ता। ऐसे में तय किया गया कि होमागार्ड की तैनाती थानों और यातायात सिग्नलों पर न की जाये। होमगार्ड स्थायी कर्मचारी नहीं होते। उनकी भर्ती अस्थायी आधार पर की जाती है।

अपर महानिदेशक बी पी जोगदंड की ओर से जारी आदेश के अनुसार 25 हजार होमगार्डों की तैनाती नहीं करने का फैसला इस साल 28 अगस्त को किया गया था । यह फैसला उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई बैठक में किया गया था । होमगार्डों की तैनाती तीन अप्रैल के सरकारी आदेश के जरिए की गयी थी।

इसे भी पढ़ें :

पर्यटन वीजा पर अवैध रूप से धर्म प्रचार का खेल, 13 थाई और 1 मलेशियाई को UP पुलिस का फरमान

गो-संरक्षण को लेकर योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई, महराजगंज के DM समेत 5 अधिकारी सस्पेंड

होमगार्ड की संख्या में कटौती!

होमगार्डों का कोई सुनिश्चित मासिक वेतन नहीं होता है। उन्हें ड्यूटी के दिनों के आधार पर भुगतान किया जाता है। अब तक उनसे 25 दिन कार्य करने की उम्मीद की जाती थी, लेकिन सरकार ने उसे घटाकर 15 दिन कर दिया था । उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओ पी सिंह ने बताया कि उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद पुलिस विभाग पर पड़ रहे अतिरिक्त वित्तीय बोझ के कारण उक्त कदम उठाया गया ।

बजट की कमी बनी समस्या

उन्होंने बताया कि उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद पुलिस विभाग को हर महीने 10 से 12 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ उठाना पड़ता। तैनाती नहीं देने का फैसला अस्थायी है और आवश्यकता पड़ने पर होमगार्डों को ड्यूटी के लिए बुलाया जाएगा । प्रदेश के मुख्य सचिव आर के तिवारी ने अयोध्या में संवाददाताओं के सवाल पर कहा, ''दीवाली सबके घर होगी। इस पर हम विचार कर रहे हैं कि कैसे इस समस्या का समाधान हो ।''