Air Force Day : आसमान में दिखा भारत का दम, अभिनंदन ने उड़ाया मिग-21 

करतब दिखाते हुए वायुसेना  - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : आज एयरफोर्स डे है। भारतीय वायुसेना आज 87 साल की हो गई है। वायुसेना दिवस के अवसर पर गाजियाबाद स्थित हिंडन एयरबेस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान सेना के जवान लड़ाकू विमानों के साथ करबत दिखाये। हिंडन एयरफोर्स स्टेशन पर पहली बार लड़ाकू हेलीकॉप्टर अपाचे और टोही हेलीकॉप्टर चिनूक ने भी करतब दिखाये।

विंग कमांडर अभिनंदन ने वायु सेना दिवस के मौके पर गाजियाबाद स्थित हिंडन एयर बेस में एयर शो के दौरान लड़ाकू विमान मिग-21 उड़ाया।

एयर शो में बालाकोट पर हमला करने वाले अन्य लड़ाकू विमानों ने भी हवा में करतब दिखाए। जहां अभिनंदन ने एवेंजर फॉर्मेशन में तीन मिग-21 विमानों की अगुआई की, वहीं बालाकोट के नायक - ग्रुप कैप्टेन सौमित्र तमास्कर ने जैगुआर और हेमंत कुमार ने मिराज 2000 उड़ाया।

इससे पहले सेना प्रमुख बिपिन रावत, भारतीय वायु सेना प्रमुख आरके सिंह भदौरिया और नौसेनाध्यक्ष करमबीर सिंह ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पहुंचकर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

इसी बीच वायुसेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने वायुसेना दिवस पर कहा, 'इस (बालाकोट एयरस्ट्राइक) की रणनीतिक प्रासंगिकता आतंकवादियों को दंडित करने के लिए राजनीतिक नेतृत्व का संकल्प है।'


उन्होंने आगे कहा कि आतंकवादी हमलों से निपटने के सरकार के तरीके में बदलाव आया है। पड़ोस का वर्तमान सुरक्षा वातावरण चिंता का गंभीर विषय बना हुआ है। पुलवामा हमला रक्षा प्रतिष्ठानों पर होने वाले लगातार खतरे की याद दिलाता है।'


भदौरिया ने आगे कहा कि, पड़ोस में वर्तमान सुरक्षा वातावरण चिंता का एक गंभीर कारण है। पुलवामा हमला रक्षा प्रतिष्ठानों के लिए लगातार खतरे की याद दिलाता है।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी वायुसेना दिवस के मौके पर बधाई संदेश दिया है। पीएम मोदी ने इस दौरान अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो जारी किया, जिसमें उन्होंने अभी तक लड़ी गई लड़ाईयों, आपदा के दौरान मदद के लिए वायुसेना को सलाम किया है।


इसे भी पढ़ें :

वायुसेना के बेड़े में शामिल हुए 8 ‘अपाचे हेलीकॉप्टर’, लादेन किलर के नाम से है मशहूर

वायुसेना दिवस पर एयरफोर्स ने दिखाई ताकत, राष्ट्रपति और पीएम ने दी शुभकामनाएं

गौरतलब है कि 8 अक्टूबर 1932 को इंडियन एयरफोर्स की स्थापना की गई थी। इस दिन को Air Force Day के तौर पर मनाया जाता है। 1 अप्रैल 1933 को इसके पहले दस्ते का गठन हुआ था जिसमें 6 RAF-ट्रेंड ऑफिसर और 19 हवाई सिपाहियों को शामिल किया गया था।

वायुसेना की ताकत को दुनिया लगातार देखा है फिर चाहे वह पाकिस्तान के साथ युद्ध हो या फिर हाल ही में की गई पाकिस्तान में घुसकर एयरस्ट्राइक ही क्यों ना हो।

Advertisement
Back to Top