बिहार बाढ़ : मृतकों की संख्या हुई 23, CM नीतीश बोले - क्या करें, कुदरत पर किसका जोर ?

राजेंद्र नगर इलाके में बाढ़ और भारी बारिश से प्रभावित  लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। - Sakshi Samachar

पटना : बिहार में बाढ़ के कारण हालात बेहद खराब हैं, लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राहत उपायों के लिए हर संभव सहायता का आश्वासन दिया। इस बीच बिहार में मरने वालों की संख्या बढ़कर 23 पहुंच गई है। सीएम नीतीश कुमार मीडिया से बात करते हुए कहा, "कल से कुछ इलाकों में भारी बारिश हुई है" और गंगा नदी में पानी लगातार बढ़ रहा है। लेकिन उचित व्यवस्थाएं हैं और प्रशासन मौके पर है और लोगों की मदद के लिए सभी प्रयास कर रहा है।


मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने संवाददाताओं से कहा, "हम हर संभव प्रयास कर रहे हैं। मैं राज्य के लोगों से धैर्य और साहस रखने की अपील करूंगा।" ऐसी स्थिति को काबू करना किसी के हाथ में नहीं है, यह एक प्राकृतिक आपदा है। सभी को पेयजल उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जा रही है। साथ ही, बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए सामुदायिक रसोई की व्यवस्था की जा रही है।

सीएम ने जिलाधिकारियों के साथ की वीडियो कान्फ्रेंसिंग मीटिंग

बिहार में बाढ़ के कारण राजधानी पटना में भी हालात खराब हैं। उत्तर बिहार के 14 जिले इससे प्रभावित हैं। बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को प्रभावित जिलों के जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इमरजेंसी बैठक की। बैठक में भारतीय मौसम विज्ञान के प्रतिनिधि भी शामिल हुए थे।

बारिश की वजह से पेड़ गिर गया।

अगले तीन दिनों तक राज्य में बारिश की आशंका

मौसम विभाग के अनुसार, राज्य की राजधानी में शुक्रवार शाम से 200 मिमी से अधिक वर्षा हुई है, जिसे आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने "पूरी तरह से अप्रत्याशित" बताया। मौसम विभाग का कहना है कि अगले तीन दिनों तक गरज के साथ बारिश होगी

इसे भी पढ़ें

इन वजहों से हर साल आती है बाढ़, फिर भी सोई रहती है बिहार की सरकार...!

बिहार में बाढ़ का कहर जारी, आई रुला देने वाली ये तस्वीर

कुल 10 ट्रेनें हुई रद्द

पूर्वोत्तर रेलवे (एनईआर) के बलिया-छपरा खंड पर भारी बारिश के कारण ट्रेन सेवाएं भी बाधित हुईं। जनसंपर्क अधिकारी, एनईआर, महेश गुप्ता ने कहा, "लगभग 4.15 बजे भारी बारिश के कारण, हमें छपरा-बलिया खंड पर पटरियों पर कीचड़ के जमाव के बारे में जानकारी मिली। इससे मार्ग पर रेल यातायात बाधित हुआ है।" उन्होंने कहा कि आज सुबह कम से कम दस ट्रेनों को रद्द कर दिया गया। कई मार्गों पर देरी की सूचना दी गई। पटना जंक्शन रेलवे स्टेशन पर भारी बारिश के बाद एक रेलवे ट्रैक के जलमग्न हो जाने के बाद यात्री घंटों तक फंसे रहे।

Advertisement
Back to Top