नई दिल्ली : बीजेपी नेता और लॉ स्टूडेंट के साथ यौन शोषण के आरोपी स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ रेप का मामला दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच करने के लिए गठित की गई एसआईटी ने बताया कि चिन्मयानंद ने अपने उपर लगे आरोपों को स्वीकार कर लिया है। एसआईटी प्रमुख नवीन अरोड़ा ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि स्वामी चिन्मयानंद ने स्वीकार कर लिया है कि उन्होंने लड़की को अपने कमरे में मसाज करने के लिए बुलाया था।

चिन्मयानंद।
चिन्मयानंद।

चिन्मयानंद ने कहा कि वह अपनी इस करतूत से लिए शर्मिंदा भी थे। एसआईटी ने अपनी जांच में पाया कि चिन्मयानंद ने पीड़िता को 200 से ज्यादा बार अपने मोबाइल से फोन किया था। पीड़िता की शिकायत के आधार पर चिन्मयानंद के खिलाफ आईपीसी की धारा 376C, 354D, 342 और 506 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।

दुष्कर्म मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद गिरफ्तार, भेजा गया जेल

गिरफ्तारी के पहले कैसे कटी थी चिन्मयानंद की कयामत की रात, जानिए पल- पल की कहानी

कोर्ट में पेशी के बाद उन्हें गिरफ्तार कर 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। उनके अलावा तीन अन्य लड़कियों के खिलाफ भी आईपीसी की धारा 385, 506, 201 और आईटी एक्ट की धारा 67 के तहत मामला दर्ज किया गया है। उन पर चिन्मयानंद से ब्लैकमेलिंग कर 5 करोड़ रुपए की वसूली करने का आरोप है। इस आरोप में उन्हें भी गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

बता दें कि चिन्मयानंद 3 बार भाजपा के टिकट पर सांसद रह चुके हैं और अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार में गृह राज्य मंत्री रह चुके हैं। शाहजहांपुर की लॉ स्टूडेंट ने आरोप लगाए थे कि चिन्मयानंद ने न केवल उसके साथ बलात्कार किया था बल्कि एक साल तक उसे प्रताड़ित भी किया था। उसने आगे ये भी बताया था कि उसकी जान को खतरा है और दावा किया था कि उसके पास इसका पर्याप्त सबूत भी है। उसने ये भी दावा किया था कि उसने ना सिर्फ उसके साथ बल्कि उसकी एक अन्य साथी छात्रा का यौन शोषण किया था।