नई दिल्ली : पेट्रोल और डीजल के दाम मे फिर लगातार दूसरे दिन भारी वृद्धि हुई है। देश के प्रमुख महानगरों में बुधवार को पेट्रोल और डीजल के दाम 24-27 पैसे प्रति लीटर बढ़ गए। सऊदी अरब के तेल संयंत्र पर बीते सप्ताह हुए हमले के बाद कच्चे तेल के दाम में आई जोरदार तेजी के कारण आने वाले दिनों पेट्रोल और डीजल के दाम में और वृद्धि की संभावना बनी हुई है।

पेट्रोल बुधवार को दिल्ली और कोलकाता में 25 पैसे जबकि मुंबई में 26 पैसे और चेन्नई में 27 पैसे प्रति लीटर महंगा हो गया। वहीं, डीजल के दाम में दिल्ली और कोलकाता में 24 पैसे जबकि मुंबई और चेन्नई में 26 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि हुई है।

पेट्रोल और डीजल के दाम लगातार दो दिनों में देश की राजधानी दिल्ली में 39 पैसे प्रति लीटर बढ़ गए हैं। विशेषज्ञ बताते हैं कि पेट्रोल और डीजल के दाम में वृद्धि होने से आम उपभोक्ताओं पर फिर महंगाई की जबरदस्त मार पड़ेगी क्योंकि तेल के दाम में इजाफा होने से वस्तु एवं सेवाओं के मूल्य पर इसका सीधा असर होता है।

इसे भी पढ़ें :

66 रू से नीचे उतरा डीजल का दाम, पेट्रोल के दाम में भी गिरावट जारी

15 दिन में 5 से 6 रुपए बढ़ सकते हैं पेट्रोल- डीजल के दाम, जानें इसके पीछे की वजह

इंडियन ऑयल की बेवसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल के दाम बढ़कर क्रमश: 72.42 रुपये, 75.14 रुपये, 78.10 रुपये और 75.26 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं। चारों महानगरों में डीजल के दाम भी बढ़कर क्रमश: 65.82 रुपये, 68.23 रुपये, 69.04 रुपये और 69.57 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं।

सउदी अरामको के संयंत्र पर ड्रोन हमले के बाद सोमवार को बेंचमार्क कच्चा तेल बेंट्र क्रूड का भाव तकरीबन 20 फीसदी उछला, जोकि खाड़ी युद्ध के बाद सबसे बड़ी एक दिनी तेजी थी, हालांकि सत्र के आखिर में 14.61 फीसदी की बढ़त के साथ 69.02 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। इसके बाद मंगलवार को सउदी अरब द्वारा जल्द तेल के उत्पादन की बहाली करने का दावा किए जाने पर ब्रेंट का भाव करीब सात फीसदी टूटा।

अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज यानी आईसीई पर बुधवार को ब्रेंट क्रूड के नवंबर डिलीवरी अनुबंध में 0.02 फीसदी की कमजोरी के साथ 64.53 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था। वहीं, न्यूयार्क मर्केंटाइल एक्सचेंज यानी नायमैक्स पर अमेरिकी लाइट क्रूड डब्ल्यूटीआई के नवंबर डिलीवरी अनुबंध में 0.32 फीसदी की कमजोरी के साथ 58.91 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था।

इसे भी पढ़ें :

सरकार के बजट से जेब होगी ढीली, पेट्रोल-डीजल हुआ महंगा, जानिए कहां कितनी कीमत

एंजेल ब्रोकिंग के करेंसी व ऊर्जा रिसर्च मामलों के विशेषज्ञ और डिप्टी वाइस प्रेसिडेंट अनुज गुप्ता ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि दुनिया की प्रमुख तेल उत्पादक कंपनी सऊदी अरामको के तेल उत्पादन केंद्रों पर पिछले सप्ताह हुए हमले के बाद खाड़ी क्षेत्र में फौजी तनाव की स्थिति बनी हुई है, इसलिए तेल के दाम में फिलहाल कमी के आसार नहीं है, बल्कि वृद्धि की संभावना बनी हुई क्योंकि इस हमले से तेल की आपूर्ति बाधित हुई है।