नई दिल्ली : अपने बयानों से सूर्खियां बटोरने में माहिर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने भाजपा और बजरंग दल को लेकर मंगलवार को एक और विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने सनातन धर्म का बदनाम किया है, उन्हें भगवान कभी माफ नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि भगवा पहनने वाले आज चूरन बेच रहे हैं और बलात्कार कर रहे हैं।

मध्य प्रदेश अध्यात्मिक विभाग के तत्वावधान में आयोजित संत समागम कार्यक्रम में बाग लेते हुए कहा कि कुछ लोग जय श्री राम के नारे को हाईजैक कर चुके हैं। दिग्विजय सिंह जब यह सबकुछ बोल रहे थे तब मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ भी मंच पर आसीन थे।

दिग्विजय सिंह इससे पहले कहा था कि मुसलमानों से ज्यादा गैर मुसलमान ISI के लिए जसूसी कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने भाजपा और बजरंग दल पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसीन आईएसआई से पैसा लेने जैसे आरोप भी लगाए थे।

अनुच्छेद 370 को लेकर दिग्विजय सिंह ने अंतर्राष्ट्रीय मीडिया का संदेर्भ लेने का आग्रह करते हुए कहा था कि देखें कि कश्मीर में आखिर हो क्या रहा है।

उन्होंने कहा था कि मोदी सरकार ने आग में हाथ डाला है। उन्होंने बताया कि कश्मीर को बचाना उनकी पहली प्राथमिकता होगी। उन्होंने यह कहते हुए लोगों से मोदीजी, अमित शाह और अजीत डोभाल से सावधान रहने की अपील की थी कि ऐसा नहीं होने पर कश्मीर को हम खो देंगे।

दिग्विजय सिंह की जीत की भविष्यवाणी करने वाले वैराग्यानंद लेंगे समाधि

कार्यक्रम में उपस्थित कंप्यूटर बाबू ने साधुआों की वकालत करते हुए काह कि सरकार को चाहिए कि मंदिरों के लिए भूमि आवंटित करें और उन्हें मुफ्त बिजली की आपूर्ति हो। साथ ही उन्होंने साधुओं को भी वृद्धवस्था पेंशन लागू करने की मांग की।

इस साल जुलाई में आरएसएस के खिलाफ हमला जारी रखते हुए कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) देश में आतंक फैलाने में सक्रिय है और मुंबई में हुए ताजा आतंकवादी हमले की जांच के दायरे में सभी आतंकवादी संगठनों के साथ हिंदू संगठनों को भी लाया जाना चाहिए।