नई दिल्ली : इसरो का महत्वाकांक्षी चंद्रयान 2 मिशन तेजी से चंद्रमा की ओर बढ़ रहा है। यह 7 सितंबर को चंद्रमा की सतह पर लैंड करेगा। भारत के लिए इस गौरवपूर्ण क्षण को देखने के लिए रांची की धुर्वा की मृदुला कुमारी का चयन इसरो ने किया है।

मृदुला इसरो में पीएम नरेंद्र मोदी के साथ बैठ कर चंद्रयान को लैंड होते देखेंगी। मृदुला ने यह मौका इसरो द्वारा आयोजित क्विज में 10 मिनट में 20 सवालों के जवाब देकर पाया है। यह क्विज ऑनलाइन आयोजित की गयी थी। मृदुला इस सफलता को पाकर बेहद खुश हैं। मृदुला संत थॉमस के नौवीं कक्षा की छात्रा हैं। मृदुला के पिताजी पेशे से एस्ट्रोलॉजर हैं।

मृदुला इस दौरान पीएम से भी कई सवाल करेंगी और उनके सफलता के राज भी जानेंगी। 5 सितंबर को रांची से फ्लाइट के जरिए वो दिल्ली जायेंगी, साथ में पिताजी अंशुमाली तिवारी भी जायेंगे।

मृदुला कुमारी ने बताया कि वो इसरो जाकर सबसे पहले वैज्ञानिक गतिविधियों के बारे में जानेंगी। इसके अलावा वो रॉकेट साइंस, चंद्रयान की लांचिंग और लैंडिंग कैसे की गई यह भी जानेंगी। मृदुला ने कहा कि पीएम मोदी से भी मिलने के लिए वो काफी उत्साहित हैं और उनसे मिल कर सवाल भी करेंगी।

इसे भी पढ़ें:

चंद्रयान-2 की लैंडिंग पर दुनिया की नजर, बनेगा यह अनोखा रिकॉर्ड

चंद्रयान-2 से अलग हुआ विक्रम लैंडर, 20 घंटे बाद विपरीत दिशा में लगाएगा चक्कर

उन्होंने इसके लिए सवालों की लिस्ट भी तैयार कर ली है। मृदुला ने बताया कि वो पीएम मोदी से सबसे पहले यह पूछेंगी कि छोटे से गांव से निकल कर विश्व भर में पहचान कैसे मिली। वह उनकी सफलता का राज भी जानेंगी।

इसके अलावा कोल इंडिया परिवार का बच्चा मास्टर चिन्मय प्रधानमंत्री मोदी के साथ बैठकर चंद्रयान 2 की चंद्रमा पर लैंडिंग का गवाह बनेगा। कोल इंडिया ने अपने ट्विटर एकाउंट से मास्टर चिन्मय की तस्वीर जारी करते हुए लिखा है कि पीएम मोदी संग चिन्मय को भी इसरो की ओर से आमंत्रण मिला है।

आपको बता दें कि भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान के लिए आज का दिन बेहद महत्वपूर्ण है। चंद्रयान-2 के मॉड्यूल से लैंडर विक्रम सफलतापूर्वक अलग हो गया। इसरो ने भी ट्वीट कर इसकी पुष्टि की है। इसरो के अनुसार, भारतीय समयानुसार आज लैंडर विक्रम दिन में करीब 1 बजकर 35 मिनट पर सफलतापूर्वक अलग हो गया। अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने इस अलगाव को मायके से ससुराल के लिए रवाना होने जैसा बताया है।