नई दिल्ली : देश आज 73वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। दिल्ली के लाल किले से लेकर कश्मीर के लाल चौक तक पूरा देश जश्न में डूबा हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छठी बार लालकिले के प्राचीर पर तिरंगा फहराया और देश को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने सेना को लेकर एक बड़ा ऐलान किया। उन्होंने कहा कि सेना के तीन अंगों के प्रमुख के तौर पर ‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ' (सीडीएस) का पद सृजित किया जाएगा।

मोदी ने 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर से अपने भाषण में यह महत्वपूर्ण घोषणा की। उन्होंने कहा कि सीडीएस सेना के तीनों अंगों के बीच तालमेल सुनिश्चित करेगा और उन्हें प्रभावी नेतृत्व देगा।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘हमारी सरकार ने फैसला किया है कि अब चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ का पद सृजित होगा।'' 1999 में हुए कारगिल युद्ध के बाद देश की सुरक्षा व्यवस्था में कमियों का पता लगाने के लिए गठित उच्च स्तरीय समिति ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ की नियुक्ति की पैरवी की थी। राष्ट्रीय सुरक्षा व्यवस्था में जरूरी सुधारों का विश्लेषण कर रहे एक मंत्री समूह ने भी चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ की नियुक्ति की पैरवी की थी।

वर्ष 2012 में ‘नरेंद्र चंद्र टास्क फोर्स' ने चीफ्स ऑफ स्टॉफ कमेटी के स्थायी प्रमुख का पद सृजित करने की अनुशंसा की थी। चीफ्स ऑफ स्टॉफ कमेटी में सेना, नौसेना और वायुसेना के प्रमुख होते हैं तथा इनमें सबसे वरिष्ठ व्यक्ति इसका प्रमुख होता है।

आतंकवाद के खिलाफ भारत मजूबती से खड़ा : मोदी

पाकिस्तान का नाम लिए बिना उस पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि भारत आतंकवाद के खिलाफ मजबूती से खड़ा है और दुनिया के सामने आतंकवाद को पनाह देने और वित्तीय मदद करने वालों की असलियत सामने ला रहा है।

स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से राष्ट्र को संबोधित करते हुए, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत बहुत मजबूती व ताकत के साथ आतंक के खिलाफ लड़ रहा है, और आतंकवाद को पनाह देने और वित्त पोषण करने वाले किसी भी देश का समर्थन नहीं करेगा।

उन्होंने कहा, "हम दुनिया के सामने आतंक के सभी एक्सपोर्टर को बेनकाब करेंगे। हम दुनिया के अन्य देशों के साथ मिलकर आतंकवाद को पनाह देने वालों, आतंकवाद को वित्तीय मदद देने वालों और निर्यात करने वालों के खिलाफ लड़ेंगे। हम उनके असली रंग को दुनिया के सामने ला रहे हैं।"

अफगानिस्तान के आजादी के 100 साल पूरे होने पर दी बधाई

उन्होंने कहा कि पड़ोसी देश - बांग्लादेश, अफगानिस्तान और श्रीलंका आतंकवादी हमलों के शिकार हुए हैं। मोदी ने कहा, "इसलिए जब भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़ रहा है, हम विश्व मंच पर अपनी भूमिका निभा रहे हैं।" उन्होंने अफगानिस्तान को शुभकामना दी जो चार दिनों के बाद अपनी आजादी के 100 साल का जश्न मनाने जा रहा है।

आने वाले पांच साल में 5 ट्रिलियन डॉलर होगी हमारी अर्थव्यवस्था

पीएम मोदी ने कहा कि आने वाले पांच साल में हमारी अर्थव्यवस्था 5,000 अरब डॉलर की होगी और यह सपना हम सबका होना चाहिए। इस दौरान उन्होंने ऐलान किया कि दुनिया भारत को बाजार मानती है लेकिन अब हमें भी दुनिया के लिए तैयार रहना होगा। हर जिले में एक खूबी है, जिसे दुनिया में प्रचारित करना चाहिए। देश के उत्पाद को ग्लोबल मार्केट तक पहुंचाना जरूरी है।

लोगों की सोच बदली है : पीएम मोदी

लोगों की सोच बदली है। पहले लोग अपने क्षेत्र में केवल एक रेलवे स्टेशन बनने से खुश होते थे, अब लोग पूछते हैं कि वंदे भारत (तीव्र गति वाली रेल) हमारे इलाके में कब आएगी। लोग केवल बेहतर रेलवे स्टेशन ही नहीं चाहते बल्कि पूछते हैं कि हवाई अड्डा कब बनेगा : मोदी।

बढ़ती जनसंख्या को लेकर पीएम ने चिंता जताई

उन्होंने कहा कि हमें इस विषय को लेकर आने वाली पीढ़ि के लिए सोचना होगा। सीमित परिवार से ना सिर्फ खुद का बल्कि देश का भी भला होने वाला है। उन्होंने ने कहा कि जो लोग इस विषय पर आगे कदम बढ़ा चुके हैं और सीमित परिवार के फायदे को लोगों को समझा रहे हैं उन्हें आज सम्मानित करने की जरूरत है। छोटा परिवार रखने वाले देशभक्त की तरह हैं।

जो काम सत्तर साल में नहीं हुआ वो काम 70 दिन में कर दिखाया

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि ना ही हम किसी समस्या को टालते हैं और ना ही समस्या को पालते हैं। जो काम 70 साल में नहीं हुआ वो हमारी सरकार ने सत्तर दिन में कर दिखाया है। संसद के दोनों सदनों ने दो तिहाई बहुमत से इस पर फैसला लिया। उन्होंने कहा कि देश ने मुझे ये काम दिया था और वही मैं कर रहा हूं। जम्मू-कश्मीर को लेकर 70 साल हर किसी ने कुछ ना कुछ किया है लेकिन परिणाम नहीं मिले।

प्रधानमंत्री ने कहा कि घाटी के लोगों को कई सुविधाओं का फायदा नहीं मिल पा रहा था, वहां पर भ्रष्टाचार, अलगाववाद ने अपने पैर जमा लिए थे। जम्मू कश्मीर में पुरानी व्यवस्था से भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद को बढ़ावा मिल रहा था। महिलाओं, बच्चों, दलित समुदाय के साथ अन्याय हो रहा था।

370 की वकालत करने वालों से पूछा सवाल

मोदी का विपक्ष पर वार- 370 इतना अच्छा था तो स्थाई क्यों नहीं किया प्रधानमंत्री ने कहा कि सभी राजनीतिक दलों में कोई ना कोई ऐसा व्यक्ति है, जो अनुच्छेद 370 के खिलाफ या तो प्रखर रूप से या फिर मुखर रूप से बोला है, लेकिन जो लोग इसकी वकालत कर रहे हैं उनसे देश पूछ रहा है कि ये इतना जरूरी था, तो 70 साल में आपने इन्हें क्यों अस्थाई बना रखा था। आगे आते और स्थाई बना देते, लेकिन आपमें इसकी हिम्मत नहीं था।

सरदार पटेल के एक भारत, श्रेष्ठ भारत के विचार को आगे ले जा रहे हैं

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज हर कोई गर्व से कह सकता है कि एक देश, एक संविधान। हम सरदार पटेल के एक भारत, श्रेष्ठ भारत के विचार को आगे ले जा रहे हैं। GST के जरिए हमने एक देश, एक टैक्स का सपना पूरा किया, ऊर्जा के क्षेत्र में एक देश, एक ग्रिड को आगे बढ़ाया। अब जरूरत है कि देश में एक साथ चुनाव की भी चर्चा होनी चाहिए।

बाढ़ प्रभावित राज्यों को लेकर प्रधानमंत्री ने जताया दुख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज (गुरुवार को) स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से बाढ़ प्रभावित राज्यों की स्थिति को लेकर दुख जताया। उन्होंने कहा, "बाढ़ प्रभावित राज्यों की सरकारें केंद्र सरकार, एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल) राहत व बचावकर्मी और सेना सभी स्थिति से निपटने के लिए पूरी कोशिशें कर रहे हैं।"

मुस्लिम बहनों के सम्मान के लिए खत्म किया तीन तलाक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज (गुरुवार को) स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से कहा कि राजनीति से परे होकर सरकार ने मुस्लिम बहनों को न्याय और सम्मान दिलाने के लिए तीन तलाक जैसी कुप्रथा को खत्म किया।

उन्होंने कहा, "सरकार ने राजनीति से परे होकर, मुस्लिम बहनों को सम्मान और न्याय दिलाने के लिए तीन तलाक जैसी कुप्रथा को खत्म किया है।"

पीएम ने लाल किले पर किया ध्वजारोहण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को 73वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया। इससे पहले उन्होंने राजघाट पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की और सीधे लाल किले के लाहौरी गेट पहुंचे, जहां उनका स्वागत रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक और रक्षा सचिव संजय मित्रा ने किया। बाद में, उन्हें सेना, नौसेना, वायु सेना और दिल्ली पुलिस की एक टुकड़ी ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया। उन्होंने फिर ध्वजारोहण किया।

चप्पे- चप्पे पर सुरक्षा तैनात

पूरी दिल्ली में एहतियात के तौर पर स्थानीय पुलिस, सुरक्षाकर्मी, यातायात, राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी), सेना और एसपीजी कमांडो की तैनाती की गई है। साथ ही आसमान से भी निगरानी रखी जाएगी। एक इंटेलिजेंस अलर्ट के बाद लाल किला और इसके आस-पास दिल्ली पुलिस के हजारों कर्मचारी और अर्ध-सैनिक बलों की टुकड़ियां तैनात कर दी गई हैं। भारी जनादेश के साथ भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाले राजग की सत्ता में वापसी के बाद प्रधानमंत्री का राष्ट्र के नाम यह पहला संबोधन होगा।