नई दिल्ली : AIMIM के सुप्रीमो व हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने जम्मू कश्मीर को लेकर इस बार सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि पीएम के खिलाफ बोलने वालों को देश विरोधी कहा जा रहा है। अकसर अपने भाषण में भाजपा और विशेष रूप से प्रधानमंत्री को निशाना बनाने वाले असदुद्दीन ने कहा कि अब उनकी चमड़ी इतनी मोटी हो चुकी है कि किसी के कुछ बोलने से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता।

असदुद्दीन ओवैसी ने एक बार फिर जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने का कड़ा विरोध किया और कहा कि सरकार काश्मीर में टेलिफोन, इंटरनेट सेवाएं बंद करने के अलावा कई तरह की पबांदियां लगाकर वहां के लोगों को परेशान कर रही है। उन्होंने सरकार से पूछा कि अगर कश्मीर में माहौल शांत बना हुआ है तो क्यों पाबंदियां लगाई गई हैं।

ओवैसी ने सरकार पर जम्मू-कश्मीर के 80 लाख से अधिक लोगों को एक तरह से बंदी बनाने का आरोप लगाया है। उन्होंने यह भी कहा कि मोदी सरकार को जम्मू कश्मीर के लोगों से नहीं बल्कि वहां की जमीन से प्यार है।

एमआईएम सांसद कुछ लोगों के निशाने पर होने और उन्हें गोली तक मारने की आशंका व्यक्त करते हुए कहा कि देश में अभी भी गोडसे की औलादें हैं, जो उनकी जान के पीछे पड़ी हुई हैं। ओवैसी ने यह भी कहा कि जो लोग राष्ट्रपित महात्मा गांधी को नहीं छोड़ा है तो उनके सामने वह क्या चीज हैं।

इसे भी पढ़ें :

ओवैसी ने खुद को बताया ‘छिछोरा’, जानिए मोदी के लिए क्या कहा

ओवैसी ने कहा कि जो लोग प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ बोलते हैं उन्हें एंटी नेशनल बताया जाता है, आखिर मोदी का विरोध करने पर कोई एंटी नेशनल कैसे हो सकता है। ओवैसी ने कहा कि उनकी चमड़ी मोटी हो चुकी है और अगर कोई उनको एंटी नेशनल कहता है तो उनको फर्क नहीं पड़ता।