नई दिल्ली : भारतीय सेना ने पाकिस्तान की सेना से अपने कर्मियों के शवों को अपने कब्जे में लेने की पेशकश की है। आधिकारिक सूत्रों ने रविवार को बताया कि ये कर्मी जम्मू-कश्मीर के केरन सेक्टर में पाकिस्तान सीमा कार्य बल (बीएटी) के हमले को नाकाम किए जाने के दौरान मारे गए थे। सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी सेना से सफेद झंडे दिखाते हुए भारतीय सेना से संपर्क करने और भारतीय सीमा में पड़े उसके कर्मियों के शवों को अपने कब्जे में लेने को कहा गया है।

सेना ने केरन सेक्टर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास एक अग्रिम चौकी पर बीएटी के हमले को नाकाम कर दिया था जिसमें पांच से सात घुसपैठिए मारे गए थे। बीएटी में आम तौर पर पाकिस्तानी सेना के विशेष बलों के कर्मी और आतंकवादी शामिल होते हैं।

इसे भी पढ़ें सेना ने पाकिस्तान के एक और झूठ को किया बेनकाब, इस तरह दिया जवाब

सूत्रों ने बताया कि बीएटी की तरफ से हमले की कोशिश 31 जुलाई और एक अगस्त की दरम्यानी रात को की गई । उन्होंने बताया कि सेक्टर में भारतीय चौकी से थोड़ी ही दूरी पर संभवत : पाकिस्तानी सेना के विशेष सेवा समूह (एसएसजी) के कमांडो या आतंकवादियों के चार शव नजर आए हैं।