अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की फिराक में थे आतंकी, IED और स्नाइपर राइफल बरामद  

कांसेप्ट इमेज - Sakshi Samachar

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर सरकार ने पर्यटकों, अमरनाथ यात्रियों को घाटी में रहने की अवधि में कटौती करने का आदेश दिया है। सरकार ने पर्यटकों, अमरनाथ यात्रियों को सलाह दी है कि वे जल्द से जल्द घाटी से लौटने के लिए जरूरी कदम उठाएं।


सेना ने शुक्रवार को कहा कि नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास स्थिति नियंत्रण में है और काफी हद तक शांतिपूर्ण है। सेना ने कहा कि वह पाकिस्तान को कश्मीर में शांति भंग करने नहीं देगी।

सेना की 15वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लों ने श्रीनगर में सुरक्षा बलों के एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि घाटी में आईईडी विस्फोटकों का खतरा ज्यादा है, लेकिन नियमित रूप से तलाशी अभियान चलाकर सुरक्षा बल इससे प्रभावी ढंग से निपट रहे है।

इसे भी पढ़ें :

जम्मू एवं कश्मीर: मुठभेड़ में 2 आतंकी ढेर, 1 जवान की शहादत

उन्होंने बताया कि शोपियां में तलाशी अभियान चल रहा है जहां बृहस्पतिवार की रात सुरक्षा बलों पर हमला करने का प्रयास किया गया था। उन्होंने बताया कि अभियान के दौरान, पाकिस्तान आयुध फैक्ट्री में निर्मित एक बारूदी सुरंग को जब्त कर लिया गया।


बारूदी सुरंग पर पाकिस्तानी आयुध फैक्ट्री का निशान बना हुआ है। सेना के अधिकारी ने कहा कि अमरनाथ यात्रा मार्ग पर सेना को भारी मात्रा में हथियारों का जखीरा मिला है जिसमें अमेरिकी एम-24 स्नाइपर राइफल भी शामिल है।


कश्मीर के आईजी एसपी पाणि ने कहा कि घाटी में ज्यादातर पुलवामा और शोपियां के इलाकों में आईईडी विस्फोट करने के 10 से अधिक गंभीर प्रयास किए गए थे। सेना ने कहा कि 83 प्रतिशत आतंकवादियों का इतिहास पथराव का रहा है।

Advertisement
Back to Top