लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उन्नाव रेप मामले में एक बड़ी जानकारी निकलकर सामने आई है। केजीएमयू में एडमिट रेप विक्टिम की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है। यहीं नहीं पीड़िता के वकील की भी हालत नाजुक बनी हुई है। इस पूरे मामले को लेकर केजीएमयू ने एक मेडिकल बुलेटिन जारी करते हुए दी है। केजीएमयू की प्रवक्ता डॉ संदीप तिवारी ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि पीड़िता की हालत में कोई सुधार नहीं है। फिलहाल थोड़ी देर के लिए उसे वेंटिलेटर से हटाया गया है।

धरने पर बैठा विक्टिम का परिवार
धरने पर बैठा विक्टिम का परिवार

धरने पर बैठा विक्टिम का परिवार

विक्टिम का परिवार धरने पर बैठा हुआ है। उसकी मांग है कि उनके परिवार की सुरक्षा बढ़ाई जाय। वहीं दूसरी ओर रविवार को मारी गई दोनों महिलाओं का अंतिम संस्कार अभी तक नहीं किया गया है। हालात के गंभीरता को देखते हुए हाईकोर्ट ने विक्टिम के चाचा को अपनी पत्नी के अंतिम संस्कार के लिए पेरोल दिया है। उनकी मांग थी कि जब तक चाचा को रिहा नहीं किया जाएगा तब तक दाह संस्कार नहीं होगा। साथ ही उन्होंने चाचा पर सभी मुकदमे वापस लेने की भी मांग की। मिली जानकारी के अनुसार विक्टिम के चाचा पर 3 मुकदमें दर्ज हैं।

कुलदीप सेंगर पार्टी से निष्कासित

वहीं रविवार को हुए हादसे के बाद पुलिस ने कुलदीप सेंगर और मामले में आरोपी 10 लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया है। वहीं रिपोर्ट्स की मानें तो बीजेपी ने कुलदीप सेंगर को पार्टी से निष्कासित कर दिया है।

जेल भेजने की मिल रही थी धमकी

वहीं दूसरी ओर इस पूरे मामले में रेप पीड़िता की मां का एक पत्र सामने आया है। यह लेटर बीते 12 जुलाई को विक्टिम की मां की ओर से लिखा सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस, इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस को भेजा गया है। यही नहीं यूपी के होम सेक्रेटरी, डीजीपी यूपी, लखनऊ में सीबीआई के प्रमुख और पुलिस अधीक्षक (उन्नाव) को यह पत्र भेजा गया है।

इसे भी पढ़ें उन्नाव हादसा : लखनऊ में विपक्ष उतरा सड़कों पर, अखिलेश-माया और कांग्रेस आए साथ

इस लेटर में विक्टिम और उसके फैमिलीवालों ने आरोपियों द्वारा सुलह न करने पर जेल भिजवाने की धमकी का जिक्र किया है। पीड़िता की मां की तरफ से लिखे गए इस पत्र में लिखा है कि 7 जुलाई 2019 को आरोपी शशि सिंह के पुत्र नवीन सिंह, विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई मनोज सिंह सेंगर, कुन्नू मिश्रा और दो अज्ञात व्यक्ति द्वारा घर आकर धमकी दी गई। पत्र में सुलह न करने की स्थिति में फर्जी मुकदमे में फंसाकर सभी को जेल भेजने की धमकी दी गई। विक्टिम की फैमिली ने मामले में इन सभी के खिलाफ कार्रवाई की भी निवेदन किया है।