लखनऊ : उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हुई सड़क दुर्घटना मामले की जांच सीबीआई को सौंपे जाने की सोमवार देर रात सिफारिश कर दी।

प्रधान गृह सचिव अरविंद कुमार ने कहा, ‘‘सरकार ने रायबरेली जिले के गुरबख्शगंज थाना में आईपीसी की धारा 302,307, 506,120 के तहत दर्ज अपराध संख्या 305/2019 की जांच सीबीआई को सौंपने का फैसला किया है। इस बारे में एक औपचारिक अनुरोध भारत सरकार को भेजा गया है।''

इससे पहले, प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह ने कहा था कि अगर पीड़िता की मां या अन्य कोई रिश्तेदार अनुरोध करेंगे, तो राज्य सरकार रायबरेली में हुई इस दुर्घटना की सीबीआई जांच कराने को तैयार है।

गौरतलब है कि रविवार को रायबरेली में एक तेज रफ्तार ट्रक ने एक कार को टक्कर मार दी थी, जिसमें पीड़िता और उसकी रिश्तेदार तथा वकील सवार थे। इस घटना में पीड़िता की दो रिश्तेदारों की मौत हो गई, जबकि पीड़िता एवं वकील गंभीर रूप से घायल हो गये और वे अस्पताल में भर्ती हैं।

यह भी पढ़ें :

कार एक्सिडेंट में घायल हुई उन्नाव रेप पीड़िता की हालत नाजुक, मां और चाची की मौत

उन्नाव रेप केस : बीजेपी MLA कुलदीप सेंगर पर हत्या की FIR, पीड़िता की हालत गंभीर

इससे पहले भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर, उनके भाई मनोज सेंगर और आठ अन्य के खिलाफ इस मामले में पुलिस ने एक प्राथमिकी दर्ज की है। आरोपियों पर दुष्कर्म पीड़िता के चाचा महेश सिंह की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया गया, जो रायबरेली जेल में बंद हैं।

हादसे में मृत महिलाओं में से एक उन्नाव दुष्कर्म मामले की गवाह थी। दुष्कर्म पीड़िता की मां ने दावा किया कि यह दुर्घटना उनकी बेटी व अन्य को खत्म करने की एक साजिश थी।