जम्मू। जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा पर अग्रिम चौकियों पर पाकिस्तानी सैनिकों की गोलीबारी और मोर्टार गोलाबारी में सेना का एक जवान सोमवार को शहीद हो गया।

जम्मू में सेना के जनसंपर्क अधिकारी (पीआरओ) लेफ्टिनेंट कर्नल देंवेद्र आनंद ने बताया कि भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तानी सेना और उनकी चौकियों को भारी नुकसान हुआ था तथा वे हताहत हुए हैं।

बहरहाल, उन्होंने बताया कि पाकिस्तान की तरफ हुए नुकसान का पता लगाया जाना है। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि सीमा पार से गोलीबारी सुबह करीब साढ़े छह बजे शुरू हुई और यह रूक-रूक कर कई घंटे तक चलती रही जिस वजह से सरहद के आसपास की बस्तियों में रहने वाले लोगों में दहशत फैल गई।

इसे भी पढ़ें :

जम्मू-कश्मीर : गहरी खाई में बस गिरने से 33 लोगों की मौत, 22 जख्मी

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल ने उजागर की पाकिस्तान की करतूत, हमले में था हाथ

उन्हें अपनी सुरक्षा के लिए जरूरी एहतियाती उपाय करने की सलाह दी गई है। लेफ्टिनेंट कर्नल आनंद ने बताया कि पाकिस्तानी सेना ने तड़के बिना उकसावे के मोर्टार दागे और छोटे हथियारों से गोलीबारी कर संघर्ष विराम उल्लंघन किया।

इस वजह से राइफलमैन मोहम्मद आरिफ शरीफ आलम खान पठान जख्मी हो गए। उन्होंने बताया कि बाद में पठान को हवाई मार्ग से सेना के अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उन्होंने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

आनंद ने बताया कि पठान गुजरात के वडोदरा जिले के नवायार्ड गांव के रहने वाले थे। उनके परिवार में उनके माता-पिता हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ वह बहादुर, बेहद जोशीले और संजीदा सैनिक थे। राष्ट्र हमेशा उनके सर्वोच्च बलिदान और कर्तव्य के प्रति समर्पण के लिए उनका ऋणी रहेगा।