नई दिल्ली: महेंद्र सिंह धोनी की उस अर्जी को भारतीय सेना ने स्वीकार कर ली है। जिसमें धोनी ने ट्रेनिंग लेने की गुजारिश की थी। आर्मी चीफ बिपिन रावत ने महेंद्र सिंह धोनी के आवेदन पर अपने हस्ताक्षर कर दिए हैं। दरअसल क्रिकेट के धुरंधर खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी ने अगले दो महीने तक क्रिकेट से अलग होने का फैसला किया है। इस दौरान वे भारतीय सेना में सख्त ट्रेनिंग लेंगे। बता दें कि महेंद्र सिंह धोनी सेना की पैराशूट रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट कर्नल हैं। इसी रेजीमेंट में धोनी को ट्रेनिंग दी जाएगी। हालांकि महेंद्र सिंह धोनी को ट्रेनिंग के बावजूद किसी ऑपरेशन में शामिल नहीं किया जाएगा।

यह भी पढ़ें:

जब ट्रेन में टॉयलेट के पास सोने को मजबूर हुए थे महेंद्र सिंह धोनी

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को भी महेंद्र सिंह धोनी की ट्रेनिंग से कोई एतराज नहीं है। आने वाले दो महीने वे पूरी तरह अपने रेजिमेंट को समय देंगे। हाल के दिनों में विश्व कप में अपने खराब प्रदर्शन के चलते महेंद्र सिंह धोनी निशाने पर चल रहे हैं। धोनी के प्रदर्शन पर टिप्पणी करते हुए गौतम गंभीर ने कहा था कि धोनी के साथ भी वही सुलूक होना चाहिए जैसा मेरे, सहवाग और सचिन के साथ हुआ।

पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता संजय जगदाले ने तंज कसते हुए कहा कि औसत दर्जे के खिलाड़ी भी महेंद्र सिंह धोनी की परफॉर्मेंस पर टिप्पणी कर रहे हैं। उनके मुताबिक धोनी में अभी भी क्रेकेट स्पिरिट बचा है और उनका प्रदर्शन बेहद उम्दा रहा है।

वेस्टइंडीज दौरे पर नहीं जाएंगे धोनी

बता दें कि 38 वर्षीय धोनी वेस्टइंडीज दौरे पर नहीं जाएंगे। धोनी की बजाय विकेटकीपिंग के लिए ऋषभ पंत को सेलेक्ट किया गया है। चयनकर्ताओं ने आगामी वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को घोषित तीनों प्रारुपों की टीम में ऋषभ पंत को जगह देकर महेंद्र सिंह धौनी के विकल्प के तौर पर काम करना शुरू कर दिया है। हालांकि महेंद्र सिंह धोनी के सन्यास लेने की अभी कोई संभावना नहीं बताई जाती है।