हैदराबाद : देश में मंगलवार आधी रात के बाद 1.31 बजे चंद्र ग्रहण लगा, जो कि बुधवार सुबह 4.30 बजे तक नजर आया। यह दुर्लभ संयोग 149 वर्षों के बाद बना था। इसके पूर्व ऐसा संयोग 12 जुलाई 1870 को बना था। इसे भारत सहित ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, एशिया, यूरोप और दक्षिण अमेरिका में देखा गया।

तड़के तीन घंटे तक लगने वाले आंशिक चंद्र ग्रहण का गवाह पूरा देश बना जब पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के बीच आई। मंगलवार की रात चंद्रमा का केवल एक हिस्सा धरती की छाया से गुजरा। बुधवार को सुबह 3:01 पर चंद्रमा का 65 प्रतिशत व्यास धरती की छाया में रहा।

इसे भी पढ़ें :

इस बार चंद्रग्रहण के साये में मनेगी गुरु पूर्णिमा, जानें पूजा-विधि व शुभ मुहूर्त

भारत में अगला चंद्र ग्रहण 26 मई, 2021 को लगेगा जब यह पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा। ज्योतिषाचार्य पीके युग के मुताबिक गुरु पूर्णिमा पर 16-17 जुलाई की रात खंडग्रास चंद्र ग्रहण लगा। यह शनि की राशि मकर पर लगा है।

चंद्र ग्रहण: 16-17 जुलाई

स्पर्श: रात 1.31 बजे से

मध्य: समय 3-01 बजे

मोक्ष: सुबह 4.30 बजे