लखनऊ : उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने सोमवार को कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, दोनों से उनके व्यक्तिगत तौर पर बहुत अच्छे संबंध हैं।

राज्यपाल राजभवन में अपने पांच वर्ष पूरे होने पर पांचवें वर्ष का कार्यवृत्त मीडिया के सामने रखा। उन्होंने कहा कि उप्र सवरेत्तम प्रदेश बनने की राह पर है। इसमें उन्होंने 'सेतुबंध के समय गिलहरी' जैसा योगदान देने की कोशिश की है।

राम नाईक ने कहा, "मेरे अखिलेश यादव व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, दोनों से व्यक्तिगत तौर पर बहुत अच्छे रिश्ते हैं।" पिछली अखिलेश सरकार व मौजूदा योगी सरकार के बीच बेहतर कौन? इस सवाल का जवाब देने से हालांकि उन्होंने इनकार कर दिया।

राज्यपाल ने कहा, "दोनों मेरी सरकारें हैं। दोनों का मैं संरक्षक की भूमिका में रहा हूं। पर, यह मैं तय नहीं कर सकता। यह जनता तय करती है।"

इसे भी पढ़ें :

गायों की मौत पर सख्त हुए योगी आदित्यनाथ, 8 अधिकारी निलंबित

नाईक ने कहा कि कुष्ठ रोगियों के लिए निर्वाह भत्ता बढ़ाने का अनुरोध उन्होंने तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से किया था। इसे उन्होंने मान लिया।

इसी मुद्दे पर उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कहा कि कुष्ठ रोगियों को मुख्यमंत्री आवास योजना ग्रामीण में मकान दिलवाएं। इसे मुख्यमंत्री योगी ने स्वीकार कर लिया। उन्होंने कहा कि हाल के सालों में पहले के मुकाबले उन्हें कम पत्र मिले हैं। इससे संकेत है कि लोगों के काम सरकार में होने लगे हैं।