गुरु पूर्णिमा पर लाखों श्रद्धालुओं ने संगम में लगाई आस्था की डुबकी

संगम के तट पर श्रद्धालु  - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : आज गुरु पूर्णिमा है, आस्था के इस पर्व पर आज जहां भारी संख्या में लोगों ने आस्था की डुबकी लगाई और परिवार वालों के दुआएं मांगी हैं वहीं दूसरी ओर आज काशी-प्रयागराज समेत कई तीर्थ स्थानों पर घाटों के किनारे सत्संग का भी आयोजन किया गया है।

भोर प्रहर से ही आज श्रद्धालुओं शहर के प्रयागराज, वाराणसी, कानपुर गंगा नदी और लखनऊ की गोमती नदी में तट पर भारी भीड़ देखी जा रही है, गंगा स्नान करने के बाद सभी भक्त मंदिर में पूजा अर्चना कर रहे हैं।

श्रद्धालुओं ने गंगा में लगाई आस्था की डुबकी आपको बता दें कि आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा कहते हैं। इस दिन गुरु पूजा की जाती है। इस अलौकिक दिन के बारे में हर किसी की अपनी-अपनी सोच है। इस दिन गुरु पूजा का विधान है। इस दिन से चार महीने साधु-सन्त एक ही स्थान पर रहकर ज्ञान की गंगा बहाते हैं।

इसे भी पढ़ें :

इस बार चंद्रग्रहण के साये में मनेगी गुरु पूर्णिमा, जानें पूजा-विधि व शुभ मुहूर्त

चंद्रग्रहण के समय क्या करें - क्या न करें, गर्भवती महिलाएं रखें विशेष ध्यान

ये चार महीने मौसम के हिसाब से भी सर्वश्रेष्ठ होते है, इस दौरान न अधिक गर्मी पड़ती है और न ही अधिक सर्दी इसलिए अध्ययन के लिए उपयुक्त माने गए हैं। जैसे सूर्य के ताप से तप्त भूमि को वर्षा से शीतलता एवं फसल पैदा करने की शक्ति मिलती है, वैसे ही गुरु-चरणों में उपस्थित साधकों को ज्ञान और योग की शक्ति मिलती है। इस दिन जगह-जगह गुरु के सम्‍मान में कार्यक्रमों का आयोजन होता है।

जानिए 'गुरु' का अर्थ शास्त्रों में 'गु' का अर्थ बताया गया है- अंधकार या मूल अज्ञान और 'रु' का अर्थ किया गया है- उसका निरोधक। 'गुरु' को 'गुरु' इसलिए कहा जाता है कि वह अज्ञान तिमिर का ज्ञानांजन-शलाका से निवारण कर देता है और अंधकार को हटाकर प्रकाश की ओर ले जाने वाले को 'गुरु' कहा जाता है।

Advertisement
Back to Top