LIVE: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का संसद के संयुक्त सत्र को संबोधन, सरकार के कामों का किया बखान 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद - Sakshi Samachar

नई दिल्ली. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को संसद के सेंट्रल हॉल में लोकसभा और राज्यसभा के संयुक्त सत्र को संबोधित किया। राष्ट्रपति ने सबसे पहले देश के 61 करोड़ से अधिक मतदाताओं को अच्छी सरकार चुनने के लिए धन्यवाद दिया। साथ ही चुनाव आयोग की भी सराहना की।

प्रधानमंत्री किसान निधि के दायरे में सभी किसानों को लाने की बात राष्ट्रपति ने कही। पशुधन की संरक्षा के लिए राष्ट्रपति ने विशेष योजना शुरू करने की बात कही। छोटे दुकानदारों की आर्थिक सुरक्षा के लिए सरकार द्वारा पेंशन योजना की मंजूरी मिलने की जानकारी दी।

राष्ट्रपति ने बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि सेना के जवानों के साथ अब राज्य पुलिस के जवानों के बच्चों को भी स्कॉलरशिप की सुविधा होगी। साथ ही सरकार द्वारा राशि बढ़ाए जाने की घोषणा की।

यह भी पढ़ें:

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा : विविधता हमारी सबसे बड़ी ताकत, संसाधनों पर सबका हक

राष्ट्रपति ने जल संरक्षण को लेकर चिंता जाहिर की। उन्होंने इस बारे में व्यापक जन जागरुकता पर जोर दिया। राष्ट्रपति ने सूखाग्रस्त इलाकों को राहत दिलाने की बात कही।

मजबूत ग्रामीण अर्थवस्था और कृषि विकास को लेकर राज्यों को केंद्र की तरफ से हरसंभव मदद का राष्ट्रपति ने भरोसा दिलाया। इसके लिए 25 लाख करोड़ अतिरिक्त निवेश की राष्ट्रपति ने जानकारी दी।

राष्ट्रपति ने 10 हजार और किसान उत्पादक संघ बनाने की बात कही। उन्होंने मत्स्य पालन की अपार संभावनाओं की चर्चा की। मछली पालन के लिए विशेष फंड बनाने और अलग विभाग के संचालन की राष्ट्रपति ने जानकारी दी।

राष्ट्रपति ने स्वरोजगार पर जोर दिया। देश के 112 जिलों के विकास के लिए व्यापक स्तर पर काम करने की बात राष्ट्रपति ने कही।

जनधन योजना के बाद बैंकिंग सेवाओं को घर घर तक पहुंचाने की प्रतिबद्धता के बारे रामनाथ कोविंद ने जानकारी दी। इसके लिए पोस्टल बैंकिंग सुविधा के विस्तार की बात राष्ट्रपति ने कही।

50 करोड़ गरीबों के लिए आयुष्मान भारत योजना का राष्ट्रपति ने जिक्र किया। जिसके तहत अब तक 26 लाख गरीबों का मुफ्त इलाज हो चुका है। साथ ही जनौषधि और सस्ती दवाएं मुहैया कराने पर राष्ट्रपति ने सरकार की कार्ययोजना की जानकारी दी।

महिलाओँ के लिए योजनाएं

राष्ट्रपति ने महिलाओं के लिए किए जा रहे सरकारी प्रयासों की जानकारी दी। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत नारी शिक्षा पर जोर दिया जा रहा है। उज्जवला योजना के तहत महिलाओं को रसोई गैस की सुविधाएं मिली हैं। महिलाओं को स्वरोजगार और उनकी सुरक्षा के लिए सरकार पुख्ता कदम उठा रही है।

तीन तलाक और हलाला खत्म करने के लिए अपील

राष्ट्रपति ने तीन तलाक और हलाला जैसी कुप्रथाओं को खत्म करने पर जोर दिया। साथ ही राष्ट्रपति ने सांसदों से इस मुद्दे पर सरकार की नीति पर सहयोग की अपील की।

युवाओं के लिए समय पर वित्तीय संसाधन

स्वरोजगार के लिए 19 करोड़ रुपए अब तक मुद्रा योजना के तहत वितरित किए गए हैं। साथ ही उद्यमियों के लिए 50 लाख रुपए तक का ऋण मुहैया कराने पर विचार किया जा रहा है। साल 2024 तक देश में कम से कम 50 हजार स्टार्टअप्स शुरू होने की राष्ट्रपति ने उम्मीद जाहिर की।

उच्च शिक्षा पर जोर

2024 तक उच्च शिक्षा में सीटों को डेढ़ गुणा बढाने पर राष्ट्रपति ने जोर दिया। साथ ही उच्च शिक्षा संस्थानों को स्वायत्तता और वित्तीय सहायता की बात राष्ट्रपति ने बात कही।

भारत को विश्व स्तर की खेल शक्ति बनाने की बात

राष्ट्रपति ने राज्य और जिला स्तर पर खेलो इंडिया अभियान के तहत प्रतिभावान खिलाड़ियों की पहचान करने पर जोर दिया। फिलहाल इस योजना के तहत तहत हर साल ढाई हजार खिलाड़ियों की पहचान कर उन्हें उन्नत ट्रेनिंग दी जाती है। ताकि वे अंतरराष्ट्रीय स्तर की स्पर्धा में शामिल हो सकें।

Advertisement
Back to Top