सारठ। झारखंड में देवघर जिले के सारठ में एक शादी में दुल्हन को पुराने कपड़े देने पर विवाद हो गया। नाराज दुल्हन ने कुछ घंटों बाद शादी तोड़ दी। इसके अलावा, रस्म में दी गई रकम को वापस नहीं देने पर दूल्हा समेत 150 बारातियों को बंधक बना लिया गया। गांव वालों के बीच-बचाव कराने के बाद बारातियों ने 3.50 लाख रुपए लौटाए। इसके बाद बारातियों को 12 घंटे के बाद छोड़ा गया।

यह मामला सारठ थाना क्षेत्र के पिंडारी गांव का है जहां मामले की सूचना के बाद पुलिस पहुंची, लेकिन गांववालों ने कहा कि यह हमारे समाज का मामला है। हम आपस में सुलझा लेंगे।

दरअसल पिंडारी गांव निवासी निकहत फातेमा की शादी सोनारायठाढ़ी के आरिफ अंसारी के साथ तय हुई थी। शादी में साढ़े तीन लाख रुपए दिए थे।

इसे भी पढें :

झारखंड के लोहरदगा में दो नाबालिग दरिंदों ने किया मासूम से सामूहिक दुष्कर्म

शादी की तय तारीख में बीते 18 जून मंगलवार को दुल्हा अपने परिजन के साथ बारात लेकर पिंडारी गांव पहुंचे। देर रात तक निकाह की रस्में पूरी हुईं। तभी दुल्हन के लिए जब दूल्हा पक्ष के लोगों ने पुराने कपड़े दिए तो दुल्हन पक्ष की महिलाएं पुराने कपड़े देख नाराज हो गईं। इस पर दोनों पक्षों में काफी बहस हुई। इसके बाद सुबह दुल्हन ने शादी तोड़ दी।

दोनों पक्षों में विवाद बढ़ने के बाद गांव के लोगों ने दुल्हन पक्ष को समझाया, लेकिन परिवारवाले मानने को तैयार नहीं थे। उनका कहना था कि पहले रकम लैटाई जाए, तभी बारातियों को छोड़ा जाएगा। उधर, बारातियों का कहना था कि हमने हमारी रीति के मुताबिक ही किया है।