श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के पूंछ सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी गोलीबारी में शहीद हुए लांस नायक जावेद का पार्थिव शरीर बुधवार को पटना पहुंचा। जावेद सेना के ग्रेनेडियर रेजिमेंट की 93वीं बटालियन में तैनात थे। सोमवार को वे शहीद हुए थे। वे मूल रूप से खगड़िया के रहने वाले थे। जावेद का पार्थिव शरीर एयरपोर्ट पर पहुंचते ही मंत्री नंद किशोर यादव ने पुष्पचक्र अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजली दी। पुलिस विभाग के मुखिया गुप्तेशवर पांडेय नें भी शहीद को श्रद्धांजली दी। शहीद के श्रद्धांजली के दौरान प्रशासन के कई आला- अफर भी मौजूद थे।

बाकरूद्दीन के 6 बेटे में दूसरे नंबर पर थे जावेद

जावेद बकरूद्दीन के 6 बेटो में से दूसरे नंबर पर थे। उन्होंने साल 2010 में सेना ज्वाइन की थी। उन्होंने साल 2015 में फरजाना खातून से शादी की थी। उनका एक बेटा भी है जिसकी उम्र करीब ढाई साल की है। फरजाना दूसरे बच्चे की भी मां बनने वाली हैं।

सोमवार को मां से आखिरी बार की वीडियों कॉल पर बात

जावेद के बड़े भाई मोहम्मद परवेज ने बताया कि सोमवार की सुबह करीब 8 बजे जावेद ने अपनी मां अमीना से आखिरी बार वीडियो कॉल पर बात की थी। उस वक्त तक सब कुछ ठीक-ठाक था। जावेद करीब चार महीने पहले छुट्टी लेकर आए थे। ईद पर भी आने की बात कही थे लेकिन उन्हें छुट्टी नहीं मिल पाई।

इसे भी पढें

पति से जी भर बात भी नहीं कर सकी थी शहीद की पत्नी, बिलखते हुए कही ये बात

सोमवार को मां से बातचीत के दौरान कहा था वे कुछ दिनों के लिए घर आने वाले हैं। सोमवार को अचानक जावेद की पत्नी के मोबाइल पर कॉली आती है कि जावेद घायल हो गए हैं। लेकिन कुछ देर बाद पता चला कि वे शहीद हो गए हैं। जावेद का शव घर पहुंचते ही बुधवार शाम उन्हे सुपुर्द- ए- खाक कर दिया गया।