नई दिल्ली: चुनाव आयोग के एक सदस्य अशोक लवासा ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा के खिलाफ कई आरोप लगाए थे। जिसके बाद पत्रकारों ने उन्हें खूब तवज्जो दी। यहां तक कि पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी और नवीन चावला ने भी अशोक लवासा का साथ दिया। राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि ये सब पर्दे के पीछे कांग्रेस पार्टी ही करवा रही है।

दरअसल मौजूदा चुनाव आयुक्त अशोक लवासा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम के खास माने जाते हैं। इससे पहले पर्यावरण और वित्त सचिव रहते हुए उन्होंने अपनी पत्नी को 12 कंपनियों के बोर्ड ऑफ डायरेक्टरर्स में शामिल कराया।

कॉरपोरेट डेटा सेवा प्रदाता जउबा कॉर्प और कॉरपोरेटडीआईआर पर एक सर्च से सामने आया है कि चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की पत्नी नोवेल सिंघल लवासा एक दर्जन से अधिक कंपनियों के निदेशक मंडल में हैं।

यह भी पढ़ें:

क्लीन चिट दिए जाने से नाराज चुनाव आयुक्त अशोक लवासा, कांग्रेस ने मोदी सरकार पर हमला

नोवेल को चार बिजली कंपनियों के बोर्ड में एक ही दिन नियुक्त किया गया था। अशोक लवासा भी बिजली मंत्रालय में कुछ साल तक विशेष सचिव के रूप में काम कर चुके हैं। अपने लंबे करियर में लवासा ने गृह, वित्त मंत्रालयों में सेवा देने के अलावा राज्य स्तर पर भी कई भूमिकाओं को निभाया है।

बिजनेस डेटा फर्म कॉरपोरेटडीआईआर के मुताबिक, नोवेल सिंघल लवासा एक ही दिन 14 सितम्बर, 2016 को रीसाट्ज माईसोलर 24 प्राइवेट लि., वेलस्पन सोलर टेक प्राइवेट लि., वेलस्पन एनर्जी राजस्थान प्राइवेट लि. और वेलस्पन सोलर पंजाब प्राइवेट लि. में नियुक्त की गईं थीं। आधा दर्जन अन्य ऊर्जा कंपनियों के अलावा नोवेल लवासा बलरामपुर चीनी मिल्स लि. की भी निदेशक हैं। नोवेल सिंघल लवासा का डॉयरेक्ट आइडिंटिफिकेशन नंबर (डीआईएन) 07071993 है। अशोक लवासा और उसकी पत्नी के बारे में pgurus वेब और वकील प्रशांत पटेल ने कई खुलासे किये हैं।

अशोक लवासा की बेटी हैं निर्वाचन अधिकारी और कलेक्टर

अशोक लवासा पर कथित तौर पर कांग्रेस लॉबी के पक्ष में आवाज बुलंद करने का आरोप लगाया जा रहा है। वहीं उनकी बेटी और लेह में तैनात जिलाधिकारी अवनी लवासा भी बेजेपी कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई में तनिक भी देरी नहीं करती हैं। पापा की ही तरह अवनी लवासा ने जिला निर्वाचन अधिकारी के तौर पर भाजपा नेताओं के खिलाफ मीडियाकर्मियों को रिश्वत देने के मामले में एफआईआर दर्ज कराने में देरी नहीं की। कथित तौर पर अवनी लवासा पर भी मामले को रफा दफा करने का आरोप था लेकिन उन्होंने किसी की नहीं सुनी। अवनी लवासा 2012 बैच की आएएस अधिकारी हैं।