अमरावती : फनी तूफान के प्रभाव आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्र पर हुआ है। आंध्र प्रदेश के तटीय जिला श्रीकाकुलम के कई हिस्सों में तेज हवा के साथ बारिश हुई। इस तूफान से किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। अधिकारियों ने बताया कि कई हिस्सों में बारिश के कारण 9 मवेशियों और 12 भेडों की मौत हो गई। तूफान के चलते बिजली के 2000 से भी अधिक खंभे उखड़ गये। मोबाइल फोन के 218 टावर क्षतिग्रस्त हुये।

ओडिशा सरकार द्वारा फनी तूफान के बारे में बहुमूल्य सूचना आंध्र प्रदेश सरकार को देने से नुकसान को कम किया जा सका। चुनाव आयोग ने राज्य के निर्वाचन अधिकारी गोपाल कृष्ण द्विवेदी के अनुरोध पर फनी तूफान के मद्देनजर श्रीकाकुलम, विजयनगरम, विशाखापटनम और पूर्व गोदवरी जिलों में आचार संहिता में ढील दी। इससे समय पर जरूरी राहत कार्य चलाया गया।

इसे भी पढ़ें :

फनी का श्रीकाकुलम जिले में प्रभाव, तीन मकान क्षतिग्रस्त, जानमाल का कोई नुकसान नहीं

अधिकारियों की पहल लाई रंग, नहीं हुआ आंध्र प्रदेश में कोई खास नुकसान

आप को बता दें कि आंध्र प्रदेश के चार राजस्व मंडलों में फनी तूफान का प्रभाव देखा गया। बारिश से 406 हेक्टर में बागबानी फसले, 187 हेक्टर में धान, 555 हेक्टर में मूंगफली, कपास, ज्वार, तंबाकू और सूर्यमुखी की फसले नष्ट हुई। राहत शिविरों में 3,334 परिवारों के शरण दी गई।