नई दिल्ली : भीषण चक्रवाती तूफान फनी के प्रभाव को भांपते हुए मौसम विभाग ने लोगों को सतर्क रहने की चेतावनी जारी की। शुक्रवार को ओडिशा के पुरी में दस्तक देने की आशंका के मद्देनजर रक्षा बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है, शैक्षणिक संस्थानों को बंद रखने के आदेश दिये गए हैं और तटीय जिलों में रह रहे हजारों लोगों को सुरक्षित इलाके में पहुंचाया गया है।

मौसम विभाग के मुताबिक, इसका असर उत्तर प्रदेश, बिहार, उत्तराखंड, झारखंड, पश्चिम बंगाल, सिक्किम और तमिलनाडु और पुडुचेरी में भी दिख सकता है। इसको लेकर मौसम विभाग ने उत्तर प्रदेश के किसानों के लिए चेतावनी भी जारी की है। मौसम विभाग की ओर से जारी चेतावनी में कहा गया है कि प्रदेश में 2 और 3 मई को तेज हवा और बारिश की संभावना जताई गई है।

चेतावनी में कहा गया है कि बंगाल की खाड़ी में बने फनी चक्रवात के कारण 2 और 3 मई 2019 को प्रदेश में हल्की से मध्यम वर्षा होने और तेज हवाएं जिसकी गति 30-40 किलोमीटर प्रति घंटा चलने की संभावना है। इसकी वजह से आद्रता में 80-90 फीसदी इजाफा होने की भी संभावना है।

इसे भी पढ़ें :

फनी तूफान, विशाखापटनम की ओर आने-जाने वाली 81 रेलगाडियां स्थगित

ओडिशा में फंसे तूफान फनी से पीड़ितों के लिए चलेगी विशेष ट्रेन

किसानों के सलाह देते हुए कहा गया है कि फनी चक्रवात के असर को देखते हुए किसानों और भंडार गृहों को सलाह दी जाती है कि नमी और तेज हवा से फसल को होने वाले नुकसान से बचने के लिए कटी फसल, खुले में रखे अनाज और खेतों में तैयार फसल को काटकर सुरक्षित करने की समुचित व्यवस्था करें।

वहीं दूसरी तरफ, आंध्र प्रदेश में फनी तूफान के प्रभाव को भांपते हुए मौसम विभाग ने लोगों को सतर्क रहने की चेतावनी जारी की। इस क्रम में रेल विभाग ने 81 रेलगाडियां परावर्तित कर दी हैं। दोनों ओर से रेल मार्ग में बदलाव किया गया।

भद्रक और विजयनगरम के बीच चलनेवाली रेल सेवा स्थगित कर दी गई। भुवनेश्वर-पुरी रेल सेवा कल रात से स्थगित हुई। 3 मई को पुरी, भुवनेश्वर से चलने वाली रेलगाड़ी रद्द करने की घोषणा भी की गई। टिकट आरक्षित कर चुके यात्रियों को किराया वापस लौटाया जा रहा है।

विजयनगरम जिले में तटीय क्षेत्र में रहनेवालों को सतर्क कर दिया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक आगामी दो दिनों भारी वर्षा होने की संभावना है। यह जानकारी विजयनगरम जिलाधीश हरि जवाहर लाल ने दी।