भोपाल : आयकर विभाग की टीमों ने रविवार तड़के मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के ओएसडी (विशेष ड्यूटी पर तैनात अधिकारी) प्रवीण कक्कड़ तथा अन्य लोगों के भोपाल और इंदौर स्थित निजी आवास और अन्य ठिकानों पर दबिश दी है। दबिश में बड़ी मात्रा में नगदी मिलने की बात भी सामने आ रही है। अभी तक आयकर विभाग की टीम को 9 करोड़ रुपये बरामद हो चुके हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, दिल्ली से आए आयकर विभाग के दलों ने रविवार तड़के भोपाल व इंदौर में एक साथ दबिश दी। भोपाल के प्लेटिनम प्लाजा इमारत की छठवीं मंजिल और नादिर कॉलोनी, इंदौर के विजयनगर स्थित कार्यालय सहित अन्य स्थानों पर दबिश दी।

भोपाल, इंदौर समेत दिल्ली के आवास पर छापेमारी
भोपाल, इंदौर समेत दिल्ली के आवास पर छापेमारी

कक्कड़ राज्य पुलिस सेवा के पूर्व अधिकारी है। कक्कड़ को राष्ट्रपति पुरस्कार भी मिल चुका है। वे पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के भी ओएसडी रहे हैं। सरकारी नौकरी छोड़ चुके कक्कड़ वर्तमान में मुख्यमंत्री के ओएसडी हैं।

छापेमारी के दौरान तैनात सुरक्षाकर्मी
छापेमारी के दौरान तैनात सुरक्षाकर्मी

सूत्रों के अनुसार, आयकर विभाग की टीमों ने भोपाल के प्लेटिनम प्लाजा में ही एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) संचालक के ठिकानों के साथ-साथ अन्य कई स्थानों पर भी दबिश दी है।

अधिकारियों ने बताया कि आयकर अधिकारियों ने इंदौर, भोपाल और दिल्ली (ग्रीन पार्क) में छापेमारी की। जिन लोगों पर छापेमारी की गई उनमें कमलनाथ के पूर्व विशेष कार्याधिकारी (ओएसडी) प्रवीण कक्कड़, पूर्व सलाहकार राजेंद्र मिगलानी और उनके रिश्तेदार से जुड़ी कंपनी मोजर बेयर और उनके भांजे रातुल पुरी की कंपनी शामिल है।

बरामद नगदी
बरामद नगदी

लोकसभा चुनाव की घोषणा होने से पहले ही कक्कड़ और मिगलानी ने इस्तीफा दे दिया था। दिल्ली से इंदौर पहुंची आयकर विभाग के अधिकारियों की टीम ने कक्कड़ के विजय नगर क्षेत्र स्थित आवास और उनसे जुड़े अन्य परिसरों पर छापोमरी की। सूत्रों ने कहा कि छापेमारी में जब्त दस्तावेजों की जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें :

JNTU को आयकर नोटिस, आईटी रिटर्न फाइल नहीं करने की शिकायत

आयकर विभाग ने टीडीपी नेता पुत्ता सुधाकर यादव के आवास पर छापा मारा

मध्य प्रदेश पुलिस के पूर्व अधिकारी कक्कड़ को राज्य में कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार के सत्ता में आने के बाद कमलनाथ का ओएसडी नियुक्त किया गया था। यह छापेमारी मौजूदा चुनावी सीजन में संदिग्ध हवाला धन की आवाजाही और कर चोरी के लिए की गई है।