लखनऊ : देश में इस वक्त सियासी पारा गरम है, सभी के जेहन में सिर्फ और सिर्फ लोकसभा चुनाव और नेताओं की बयानबाजी गूंज रही है। दूसरी तरफ इन सब से अलग यूपी बोर्ड के छात्रों के मन में अपने रिजल्ट को लेकर अब चिंता बढ़ गई है। परिक्षाएं खत्म हो चुकी हैं, कॉपी चेक करने का काम लगभग पूरा होने वाला है। आइए जानते हैं इस साल कब तक छात्रों का रिजल्ट जारी हो सकता है।

अबकी बार 27 अप्रैल को परिणाम आने जा रहा है। इस दिन हाईस्कूल व इंटरमीडिएट दोनों का परीक्षाफल आएगा। परीक्षाफल दोपहर में 12.30 बजे प्रयागराज में घोषित किया जाएगा। हालांकि पिछले वर्ष यह परिणाम 29 अप्रैल को घोषित हुए थे। अबकी बार दो दिन पहले रिजल्ट्स आ रहे हैं।

अबकी बार परीक्षा में 58 लाख 6 हजार 922 परीक्षार्थी पंजीकृत थे और नकल पर सख्ती के चलते हजारों छात्र छात्राओं ने परीक्षा छोड़ दी थी।

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (यूपी बोर्ड) के कक्षा 10वीं और 12वीं के परीक्षाओं के परिणाम 20 अप्रैल से पहले तक जारी होने की बात कही थी। दोनों ही कक्षाओं की कॉपियों के मूल्यांकन का काम लगभग पूरा होने वाला है। शासन की तरफ से आदेश दिया गया है कि यह काम 25 मार्च तक पूरा हो जाना चाहिए।

बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव ने बताया कि इस बार कापियों का मूल्यांकन हर हाल में 15 दिनों में पूरा करना था। हाईस्कूल-इंटर की कॉपियां जांचने के लिए तकरीबन सवा लाख शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है।

उन्होंने बताया कि इस बार मूल्यांकन के बाद 100 प्रतिशत कॉपियों का अंकेक्षण (ऑडिट) करवाने का प्रस्ताव तैयार दिया गया है। शासन से अनुमति मिलने के बाद सभी कॉपियों की दोबारा जांच करवाएंगे ताकि मूल्यांकन को लेकर होने वाली शिकायतें कम की जा सके।

यह भी पढ़ें :

RRB Group-D Result : चौकाने वाले रिजल्ट आये सामने, छात्रों को मिले 100 में से 148 अंक

गौरतलब है कि इस बार परीक्षाएं दो मार्च को ही खत्म हो जाएंगी लेकिन चार मार्च को शिवरात्रि का स्नानपर्व होने के कारण कॉपियों को मूल्यांकन केंद्रों तक भेजने में परेशानी को देखते हुए मूल्यांकन की शुरुआत की तारीख आठ मार्च तय की गई थी। इसके एक महीने बाद अप्रैल के दूसरे या तीसरे सप्ताह में परिणाम घोषित करने की तैयारी थी।

इस बार प्रदेश भर में 231 केंद्र बनाए जा रहे हैं। छात्र-छात्राओं की संख्या में नौ लाख की कमी होने के कारण तकरीबन डेढ़ दर्जन मूल्यांकन केंद्र कम हुए हैं। बोर्ड परीक्षाएं सात फरवरी से शुरू होकर दो मार्च तक हुई थी। हाईस्कूल की परीक्षा जहां 28 फरवरी को समाप्त हुई थी, वहीं इंटरमीडिएट की परीक्षा दो मार्च को सम्पन्न हुई।