नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई को लेकर आज अहम दिन है। राफेल डील विवाद और अयोध्या मुद्दे के साथ-साथ अनुच्छेद 35-A पर भी सुनवाई हो सकती है। हालांकि अनुच्छेद 35-A पर सुनवाई को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है।

अयोध्या विवाद

उच्चतम न्यायालय राजनीतिक रूप से संवेदनशील अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले में आज सुनवाई करेगा। मामले की सुनवाई पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ करेगी, जिसमें प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर हैं।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

शीर्ष अदालत ने इससे पहले 29 जनवरी को प्रस्तावित सुनवाई को 27 जनवरी को रद्द कर दिया था क्योंकि न्यायमूर्ति बोबडे उस दिन उपलब्ध नहीं थे। इस मामले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 2010 के फैसले के खिलाफ शीर्ष अदालत में 14 अपीलें दाखिल की गयी हैं।

यह भी पढ़ें :

सुप्रीम कोर्ट ने स्वामी से अयोध्या मामले की सुनवाई के दौरान हाजिर रहने का दिया आदेश

राफेल सौदे पर राहुल का पीएम मोदी पर हमला जारी, कहा-‘‘फ्रांस में भी ‘चौकीदार चोर है’ का नारा मशहूर

चार दीवानी मामलों में दिये गये इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले में कहा गया था कि अयोध्या में 2.77 एकड़ जमीन को सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच बराबर-बराबर बांटा जाए। गत 25 जनवरी को पांच न्यायाधीशों की पीठ का पुनर्गठन किया गया था क्योंकि पहले पीठ में शामिल रहे न्यायमूर्ति यू यू ललित ने मामले में सुनवाई से खुद को अलग कर लिया था।

राफेल विमान (फाइल फोटो)
राफेल विमान (फाइल फोटो)

राफेल डील विवाद

फ्रांस के साथ हुए 36 राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद से संबंधित सुप्रीम कोर्ट के 14 दिसंबर, 2018 के फैसले की समीक्षा करने की मांग से जुड़ी 2 याचिकाओं पर आज सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा। यह सुनवाई यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण की अर्जी पर होगी। जिसमें उन्होंने दावा किया है कि सरकार ने कोर्ट को जो सीलबंद जवाब दिया है, वह बिल्कुल असत्य है। कोर्ट को बाद में मिले तथ्यों के आधार पर फिर से उस पर सुनवाई करनी चाहिए।