गुवाहाटी : असम में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या बढ़कर 85 हो गई है। प्रदेश सरकार ने यहां शनिवार को यह जानकारी दी। स्वास्थ्य मंत्री हिमांता बिस्वा सरमा ने व्हाट्सएप संदेश के माध्यम से यह जानकारी मीडियाकर्मियों से साझा की। उन्होंने शनिवार को गोलाघाट सिविल अस्पताल का दौरा किया।

मंत्री के अनुसार, जोरहाट मेडिकल कॉलेज में भर्ती जहरीली शराब के शिकार 221 लोगों में से 46 लोगों की मौत हो गई, वहीं गोलाघाट में भर्ती 93 लोगों में से 35 लोगों की मौत हो गई। तीताबोर उपखंडीय अस्पताल में चार लोगों के मरने से मृतकों की संख्या 85 हो गई।

आपको बता दें कि इसके पहले पुलिस ने असम के गोलाघाट जिले के एक चाय बागान में कथित तौर पर जहरीली शराब पीने के बाद सात महिलाओं सहित कम से कम 66 लोगों की मौत होने की बात कही थी। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी देते हुए कहा था कि पचास से अधिक लोगों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। उन्होंने बताया कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है।

भाजपा विधायक मृणाल सैकिया ने बताया कि 100 से अधिक लोगों ने गुरुवार को शराब पी थी और शराब को एक ही विक्रेता से खरीदा गया था। ये लोग सालीमीरा चाय बागान में काम करते थे। पुलिस ने इस घटना के सिलसिले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है।

असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने घटना की जांच के आदेश दिये हैं। घटना को लेकर जिले के दो आबकारी अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। पुलिस ने कहा कि गुरुवार की रात को 12 लोगों को गोलाघाट सिविल अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया। उसके बाद तीन अन्य लोगों की मौत हो गई और 15 लोगों की मौत शुक्रवार को हुई।

अधिकारियों ने बताया कि 23 लोगों की मौत गोलाघाट सिविल अस्पताल में, जबकि सात लोगों की मौत जोरहाट मेडिकल कॉलेज अस्पताल में हुई है। फिलहाल अब तक जो खबरें मिल रही है, उसके अनुसार 66 लोगों की मौत हो चुकी है।

यह भी पढ़ें :

यूपी-उत्तराखंड में जहरीली शराब का आतंक, अब तक 109 लोगों की मौत

जहरीली शराब कांड पर बोलीं प्रियंका-100 से ज्यादा लोगों की मौत से दुखी और हैरान हूं

गोलाघाट सिविल अस्पताल में मरीजों का इलाज कर रहे एक डॉक्टर ने कहा कि देशी जहरीली शराब पीने की वजह से ये मौतें हुईं और अस्पताल लाये गये ज्यादातर लोगों की हालत गंभीर थी। मौतों पर चिंता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने अपर असम मंडल आयुक्त जूली सोनोवाल को मामले की जांच करने के निर्देश दिए और एक महीने के भीतर सरकार को इसकी रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा है।

सोनोवाल ने राज्य के ऊर्जा मंत्री तपन कुमार गोगोई, सांसद कामाख्या प्रसाद तासा और विधायक मृणाल सैकिया को घटनास्थल का दौरा करने को कहा है। असम के आबकारी मंत्री परिमल शुक्ल वैद्य ने विभाग के अधिकारियों की एक टीम को घटना की जांच करने का निर्देश दिया है। वहीं, कांग्रेस विधायक रूपज्योति कुर्मी ने आबकारी मंत्री के इस्तीफे की मांग की है और मुख्यमंत्री से मृतकों के परिजनों को उचित मुआवजा देने का अनुरोध किया है।