तिरुपति: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने तिरूमला में पहाड़ी पर स्थित मंदिर में भगवान वेंकटेश्वर की पूजा अर्चना की। मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार पर पहुंचने के बाद राहुल का मंदिर प्रबंधन ने गर्मजोशी से स्वागत किया। मंदिर के एक अधिकारी ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष ने पहाड़ी पर स्थित मंदिर तक पहुंचने के लिए करीब 10 किमी की ट्रेकिंग की और वहां भगवान वेंकटेश्वर की पूजा अर्चना की।

अधिकारी ने बताया कि पहाड़ी पर पहुंचने में राहुल को करीब दो घंटे लगे। उन्होंने बताया कि पहाड़ी पर पहुंचने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष थोड़ी देर तिरूमला तिरूपति देवस्थानम अतिथि गृह में रूके और बाद में मंदिर गए। मंदिर अधिकारी ने बताया कि पूजा अर्चना के बाद राहुल को पवित्र रेशमी कपड़ा, प्रसाद और एक पवित्र स्मृति चिह्न भेंट किया गया। वह करीब 20 मिनट तक मंदिर में थे।

मंदिर और वहां तक आने वाले मार्ग में सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था की गई थी। बाद में, राहुल वहां से श्री वेंकटेश्वर विश्वविद्यालय स्टेडियम एक रैली को संबोधित करने के लिए गए।

इसे भी पढ़ेें:

प्रियंका गांधी ने 2019 में चुनाव लड़ने को लेकर तोड़ी चुप्पी, कहा- मोदी का मुकाबला राहुल से

आप को बता दें कि भारतीय राजनीति में प्राय: उनका 'पप्पू' कह कर मजाक उड़ाया जाता है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी छवि बदलने की पुरजोर कोशिश में जुटे हैं और अपने 84.1 लाख फॉलोअरों के लिए व्यंग्य से भरे ट्वीट्स के माध्यम से वह एक हाजिर जवाब नेता के रूप में उभरे हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को आगामी चुनावों में कुछ नुकसान पहुंचा सकते हैं, क्योंकि पिछले विधानसभा चुनावों में भी उनके ट्विट्स ने उनके विरोधियों को नुकसान पहुंचाया था।