मेरठ: पुलवामा में बीते बीस घंटों से इनकाउंटर जारी है। इस दौरान दुर्दांत आतंकवादी गाजी को मार गिराने में सेना को कामयाबी मिली। वहीं इस मुठभेड़ में सेना के जवान अजय कुमार काम आए। माना जाता है कि गाजी को मार गिराने में अजय की अहम भूमिका रही।

मेरठ स्थित अजय के घर में जब उनकी शहादत की खबर आई तो कोहराम मच गया। अभी 31 जनवरी को एक महीने की छुट्टी बिताकर ड्यूटी पर लौटे थे। पुलवामा हमला के बाद से ही अजय की परिजनों को चिंता सताने लगी थी। फोन पर हालांकि अजय से बात हो रही थी। तमाम आशंकाओं के बीच परिजनों की दिल धक से तब रह गया जब सैन्य मुख्यालय से अजय की शहादत की खबर आई।

पत्नी डिंपल को अजय ने फोन पर कहा था, "फिक्र मत करना मैं ऑपरेशन पर जा रहा हूं।" पति की वो बातें डिंपल के सीने में हूक सी चुभ रही है। शहादत की खबर सुनते ही डिंपल बेहोश हो गईं।

घर के इकलौते चिराग अजय के गम में न सिर्फ परिवार बल्कि पूरा देश शोक मना रहा है। अजय के पिता वीरपाल सेना से ही सेवानिवृत्त हुए हैं लिहाजा उन्हें पता है सेना की परंपरा क्या होती है। सैनिक दमखम वाले पिता ऊपर से तो मजबूत दिखते हैं, जबकि उनकी बातों से साफ लगता है कि इकलौते बेटे की शहादत ने उन्हें भीतर तक तोड़ दिया है।

यह भी पढ़ें:

पुलवामा के आतंकी मुजरिम आदिल के साथ राहुल की तस्वीर, जानें वायरल सच्चाई

अजय के पिता ने जोश के साथ कहा कि उन्हें अपने बेटे की शहादत पर गर्व है। हौसला ऐसा कि उन्होंने अपने पोते को भी सेना में भेजने की बात कही।

श्योराम की शहादत पर राजस्थान के झुंझुनूं में मातम

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा के पिंगलान इलाके में सोमवार को आतंकवादियों के साथ हुई मुठभेड़ में झुंझुनूं निवासी जवान श्योराम शहीद हो गए। उनका पार्थिव शरीर आज रात जयपुर पहुंचेगा, जिसके बाद उसे सड़क मार्ग से उनके पैतृक गांव खेतड़ी तहसील के टीबा बासत ले जाया जायेगा।

वहां मंगलवार को पूरे राजकीय सम्मान से उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने श्योराम की शहादत पर संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि श्योराम व हमारे अन्य बहादुर सैनिकों ने देश के लिए अपने प्राण न्योछावर कर वीरता की सबसे बड़ी मिसाल कायम की है। थलसेना के प्रवक्ता संबित घोष ने बताया कि पुलवामा में शहीद हुए श्योराम का पार्थिव शरीर सोमवार रात जयपुर हवाई अड्डे पर पहुंचेगा।

उल्लेखनीय है कि दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के पिंगलाना इलाके में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच रविवार रात से जारी मुठभेड़ में एक मेजर समेत सेना के चार जवान शहीद हो गए। इनमें झुंझुनूं निवासी श्योराम भी शामिल हैं।

श्योराम 55 आरआर कंपनी में पुलवामा में तैनात थे। श्योराम के पिता बालूराम सिराधना का पहले ही निधन हो चुका है। घर में माता शारली देवी, पत्नी सुनीता देवी व एक चार साल का बेटा है।