नई दिल्ली : भारत ने मंगलवार को सशस्त्र बलों के लिए बहुप्रतीक्षित 72,400 नई असॉल्ट राइफलों की खरीद के लिए अनुंबध पर हस्ताक्षर किए।अमेरिकी कंपनी सिग सौर 7.62 गुणा 51 मिमी की बंदूकों की आपूर्ति करेगी। इनकी इंसास 5.56 गुणा 45 राइफल्स की जगह पर तत्काल जरूरत है। भारतीय सेना के जवान इंसास राइफल्स पर प्रमुख रूप से निर्भर हैं।

इसकी खरीद फास्ट ट्रैक प्रोक्यूरमेंट (एफटीपी) के तहत की जा रही है। हालांकि, भारतीय सेना को अकेले करीब 8.16 लाख राइफलों की जरूरत है, लेकिन एफटीपी के तहत सिर्फ सीमित संख्या में खरीदी की जा सकती है।

इसे भी पढ़ें

सेना के आधुनिकीकरण की ओर एक और कदम, अमेरिका से असॉल्ट राइफलों की खरीद को मंजूरी

इंसास राइफलों का बदला जाना कई सालों से लंबित है। इंसास, इंडियन स्माल आर्म्स सिस्टम्स का संक्षिप्त रूप है। इंसास का उत्पादन आर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड (ओएफबी) द्वारा होता है। इंसास राइफलों को लेकर जवानों की बहुत सारी शिकायतें हैं।

72,400 असॉल्ट राइफलों में से भारतीय सेना को 66,400 राइफलें मिलेंगी, जबकि नौसेना को 2,000 दी जाएंगी और अन्य 4,000 राइफलें भारतीय वायुसेना के लिए हैं। सभी राइफलों की आपूर्ति एक साल के भीतर की जानी है।

नई राइफलों को कॉपैक्ट, मजबूत व नई प्रौद्योगिकी से लैस बताया जा रहा है।