अमरावती: केंद्रीय चुनाव के मुख्य अधिकारी (CEC) सुनील अरोरा ने कहा कि आंध्र प्रदेश में महिलाओं को दिये गये 'आउट डेटेड' चेक को लेकर उन्हें शिकायत मिली है। शिकायत का संज्ञान लेते हुये संबंधित क्षेत्रों में रैंडम ऑडिट करने का निर्णय लिया गया। उन्होंने कहा कि चुनाव के मद्देनजर कुछ तबादले होने की शिकायत मिली है। इस शिकायत पर CS और DGP के चर्चा की गई और उनके प्रमाण देने पर तबादले की जांच होगी। उन्होंने स्पष्ट किया कि जाति के आधार पर मतदान केंद्र बनाना संभव नहीं है।

CEC अरोरा ने कहा कि आंध्र प्रदेश में लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ होंगे। प्रदेश में सभी राजनीतिक दलों के साथ उन्होंने समीक्षात्मक बैठक की। उन्होंने कुछ आपत्तियां जताई। मतदाता सूची में खामियां हैं और एक ही मतदाता का नाम दो से तीन बार सूची में शामिल है। इस बात को उन्होंने EC के समक्ष रखा। CEC ने कहा कि कुछ राजनीतिक दलों ने उन्हें राशनकार्ड, पेंशन देते समय उनसे शपथ ली जा रही है, इस तरह की शिकायत उन्हें मिली है।

इसे भी पढ़ें:

आंध्र प्रदेश के विपक्षी दलों के नेताओं ने EC से की वोटर्स लिस्ट में धांधलियों की शिकायत

सुनील अरोरा ने स्पष्ट किया कि EVM के साथ छेड़छाड़ की शिकायत उन्हें नहीं मिली है। DGP के खिलाफ लिखीतपूर्वक कोई शिकायत नहीं मिली है। यदि शिकायत मिलती है तो जांच की जाएगी। उन्होंने कहा कि EVM को लेकर संदेह व्यक्त करना मुनासिब नहीं है। EVM के साथ छेड़छाड़ करना असंभव है। लगभग सभी राजनीतिक दलों ने EVM को लेकर संतुष्टि व्यक्त की है।