लखनऊ : उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार प्रयागराज के तट पर चल रहे कुंभ मेले में कैबिनेट मीटिंग करने जा रही है। कैबिनेट बैठक 29 जनवरी या फिर 4 फरवरी को हो सकती है। यह जानकारी यूपी सरकार के सूचना एवं जनंसपर्क विभाग ने ट्वीट करके दी है।

सबसे खास बात यह है कि इस ऐतिहासिक कैबिनेट बैठक के समय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ पूरा मंत्रिमंडल गंगा-यमुना के पवित्र संगम में डुबकी लगाएगा। साथ ही मंत्रिमंडल के सभी सदस्य 450 साल के बाद खोले गए अक्षयवट और पवित्र सरस्वती कूप के दर्शन करेंगे।

अधिकारियों का कहना है कि मंत्री प्रयागराज में किसी सरकारी इमारत में नहीं रहेंगे बल्कि संगम तट एक तंबू के अंदर समय बिताएंगे। इस बात की पुष्टि उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी कर दी है।

उन्होंने कहा कि लोगों की आस्था और विश्वास को सम्मान देते हुए संगम तट पर कैबिनेट मीटिंग से एक सकारात्मक संदेश जाएगा। साथ ही दुनिया में कुंभ मेले के महत्व को लेकर भी संदेश दिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें :

कुंभ मेला 2019: कल होगा दूसरा बड़ा ‘स्नान’ सुरक्षा के कड़े इंतजाम

केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, 'एक औसत के अनुसार रोजाना 1-2 करोड़ लोग कुंभ मेले का हिस्सा बन रहे हैं। हम दुनिया को संदेश देना चाहते हैं कि यहां विकास और पवित्र त्योहार एक साथ चलते हैं। योजना के बारे में अंतिम कैबिनेट मीटिंग के दौरान चर्चा की गई थी कि इस महत्वपूर्ण पर्व पर संगम के किनारे कम से कम एक कैबिनेट मीटिंग की जाएगी।'

सूत्रों का कहना है कि कैबिनेट का एजेंडा क्या हो, इसका फैसला भी मुख्यमंत्री पर छोड़ दिया गया है। बैठक के लिए उचित स्थान चयन के लिए इलाहाबाद के डीएम सुहास एल.वाई और मेलाधिकारी विजय किरन आनंद को निर्देश दिए गए हैं।