नई दिल्ली : 70वें गणतंत्र दिवस के मौके पर भारत की तीन विभूतियों को भारत रत्न से सम्मानित किया जायेगा। भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी, नानाजी देशमुख और भूपेन हजारिका को यह सम्मान दिया जायेगा। गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर यह ऐलान किया गया।

डॉ. भूपेन हजारिका और नानाजी देशमुख को मरणोपरांत भारत रत्न दिया जा रहा है।

इस ऐलान के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने तीनों महान हस्तियों की तारीफ करते हुए उन्हें बधाई दी। मोदी जी ने कहा कि प्रणब दा हमारे समय के एक उत्कृष्ट राजनेता हैं।उन्होंने दशकों तक देश की निस्वार्थ और अथक सेवा की है।

भूपेन हजारिका के गीत और संगीत पीढ़ियों से लोगों द्वारा सराहे जाते हैं। उनसे न्याय, सौहार्द और भाईचारे का संदेश जाता है।

ग्रामीण विकास के लिए नानाजी देशमुख के महत्वपूर्ण योगदान ने हमारे गांवों में रहने वाले लोगों को सशक्त बनाने के एक नए प्रतिमान की राह दिखाई।

भारत रत्न, देश का वो सर्वोच्च नागरिक सम्मान है, जो असाधारण राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है। इससे पहले 2015 में मदन मोहन मालवीय (मरणोपरांत) और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भारत रत्न दिया गया था।

सामाजिक कार्यकर्ता नानाजी देशमुख

चंडिकादास अमृतराव देशमुख को नानाजी देशमुख के नाम से भी जाना जाता है। नानाजी देशमुख भारत के एक सामाजिक कार्यकर्ता थे जिन्होंने शिक्षा, स्वास्थ्य और ग्रामीण आत्मनिर्भरता के क्षेत्र में काम किया। भारत रत्न से पहले उन्हें पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है।

इसे भी पढ़ें :

दिल्ली विधानसभा ने राजीव गांधी से ‘भारत-रत्न’ वापस लेने का प्रस्ताव किया पारित

संगीतकार भूपेन हजारिका

भूपेन हाजरिका भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम से एक बहुमुखी प्रतिभा के गीतकार, संगीतकार और गायक थे। इसके अलावा वे असमिया भाषा के कवि, फिल्म निर्माता, लेखक और असम की संस्कृति और संगीत के अच्छे जानकार थे। वह एक ऐसे विलक्षण कलाकार थे जो अपने गीत खुद लिखते थे, संगीतबद्ध करते थे और गाते थे। उन्होंने कविता लेखन, पत्रकारिता, गायन, फिल्म निर्माण आदि अनेक क्षेत्रों में काम किया।

भारत रत्न, देश का वो सर्वोच्च नागरिक सम्मान है, जो असाधारण राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है। इससे पहले 2015 में मदन मोहन मालवीय (मरणोपरांत) और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भारत रत्न दिया गया था।

अब तक इन महान विभूतियों को मिल चुका है भारत रत्न

सी राजगोपालाचारी

सर्वपल्ली राधाकृष्णन

चन्द्रशेखर वेंकटरमन

भगवान दास

एम विश्वेश्वरैया

जवाहर लाल नेहरू

गोविन्द बल्लभ पन्त

धोंडो केशव कर्वे

बिधान चंद्र रॉय

पुरुषोत्तम दास टंडन

राजेंद्र प्रसाद, जाकिर हुसैन

पांडुरंग वामन काणे

लाल बहादुर शास्त्री

इंदिरा गांधी

वीवी गिरि

के. कामराज

मदर टेरेसा

विनोबा भावे

ख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ान

एम जी रामचन्द्रन

बी आर अम्बेडकर

नेल्सन मंडेला

राजीव गांधी

सरदार वल्लभ भाई पटेल

मोरारजी देसाई,

डॉ एपीजे अबुल कलाम आजाद

जे आर डी टाटा

सत्यजित राय

गुलजारी लाल नंदा

अरुणा आसफ अली

ए पी जे अब्दुल कलाम

एम एस सुब्बुलक्ष्मी

चिदम्बरम सुब्रमण्यम

जयप्रकाश नारायण

अमर्त्य सेन

गोपीनाथ बोरदोलोई

रवि शंकर

लता मंगेशकर

बिस्मिल्लाह खान

भीमसेन जोशी

सी एन आर राव

सचिन तेंदुलकर